ad

Tuesday, 6 June 2017

हिंदी कहानी --जादूगर और प्रार्थना


हिंदी कहानी --जादूगर और प्रार्थना


एक जादूगर जो मृत्यु के करीब था, उसने मृत्यु से पहले अपने बेटे को चाँदी के सिक्कों से भरा थैला दिया और बताया की "जब भी इस थैले से चाँदी के सिक्के खत्म हो जाएँ तो मैं तुम्हें एक प्रार्थना बताता हूँ, उसे दोहराने से चाँदी के सिक्के फिर से भरने लग जाएँगे । उसने बेटे के कान में चार शब्दों की प्रार्थना कही और वह मर गया । 
अब बेटा चाँदी के सिक्कों से भरा थैला पाकर आनंदित हो उठा और उसे खर्च करने में लग गया । वह थैला इतना बड़ा था की उसे खर्च करने में कई साल बीत गए, इस बीच वह प्रार्थना भूल गया । जब थैला खत्म होने को आया तब उसे याद आया कि "अरे! वह चार शब्दों की प्रार्थना क्या थी ।" उसने बहुत याद किया, उसे याद ही नहीं आया ।

अब वह लोगों से पूँछने लगा । पहले पड़ोसी से पूछता है की "ऐसी कोई प्रार्थना तुम जानते हो क्या, जिसमें चार शब्द हैं । पड़ोसी ने कहा, "हाँ, एक चार शब्दों की प्रार्थना मुझे मालूम है, "ईश्वर मेरी मदद करो ।" उसने सुना और उसे लगा की ये वे शब्द नहीं थे, कुछ अलग थे ।  फिर भी उसने वह शब्द बहुत बार दोहराए, लेकिन चाँदी के सिक्के नहीं बढ़े तो वह बहुत दुःखी हुआ । फिर एक फादर से मिला, उन्होंने बताया की "ईश्वर तुम महान हो" ये चार शब्दों की प्रार्थना हो सकती है, मगर इसके दोहराने से भी थैला नहीं भरा । 
वह एक नेता से मिला, उसने कहा "ईश्वर मुझे वोट दिलाओ" यह प्रार्थना भी कारगर साबित नहीं हुई । वह बहुत उदास हुआ ।

उसने सभी से मिलकर देखा मगर उसे वह प्रार्थना नहीं मिली, जो पिताजी ने बताई थी । 
वह उदास होकर घर में बैठा हुआ था तब एक भिखारी उसके दरवाजे पर आया । उसने कहा, "सुबह से कुछ नहीं खाया, खाने के लिए कुछ हो तो दो ।" उस लड़के ने बचा हुआ खाना भिखारी को दे दिया । भिखारी खाना खाकर बोला :-
 *"हे ईश्वर ! तुम्हारा धन्यवाद ।"* 
अचानक वह चोंक पड़ा और चिल्लाया की "अरे! यही तो वह चार शब्द थे ।" उसने वे शब्द दोहराने शुरू किए-
"हे ईश्वर तुम्हारा धन्यवाद"....
और उसके सिक्के बढ़ते गए... बढ़ते गए... इस तरह उसका पूरा थैला भर गया 
*किसी की मदद की तब उसे वह मंत्र फिर से मिल गया ।  "हे ईश्वर ! तुम्हारा धन्यवाद ।" 
यही उच्च प्रार्थना है क्योंकि जिस चीज के प्रति हम धन्यवाद देते हैं, वह चीज बढ़ती है । अगर पैसे के लिए धन्यवाद देते हैं तो पैसा बढ़ता है, प्रेम के लिए धन्यवाद देते हैं तो प्रेम बढ़ता है । ईश्वर या गुरूजी के प्रति धन्यवाद के भाव निकलते हैं कि ऐसा ज्ञान सुनने तथा पढ़ने का मौका हमें प्राप्त हुआ है । बिना किसी प्रयास से यह ज्ञान हमारे जीवन में उतर रहा है ।

Jokes.......... Statements of different leaders on India's win over Pakistan


केजरीवाल :- जनता पाकिस्तान के साथ है, फिर भारत ये मैच कैसे जीत सकता है ?? मोदी जी ने स्कोरबोर्ड से छेड़छाड़ करवाई है जी। जब 40 ओवर में 213 रन बनते हैं,10 ओवर में 53 के हिसाब से,तो अंतिम 8 ओवर में इन्होंने100 से ज्यादा रन कैसे बना लिए इसकी जाँच होनी चाहिये। मोदी जी देश की आँखों में धूल झोंक रहे हैं।



सौरभ भारद्वाज :- मैंने विदेशों में काफी कार्य किया है।मैं जानता हूँ कि स्कोरबोर्ड कैसे हैक किया जाता है। मैं केवल 90 सेकंड में मैं स्कोरबोर्ड हैक कर सकता हूँ।मैं चुनौती देता हूँ, केवल 90 सेकंड मुझे दे दो,फिर देखना केवल पाकिस्तान ही जीतेगा।



मायावती :- मोदी जी मनुवाद को बढ़ावा दे रहे हैं। वो दूसरों को आगे बढ़ने  देना नही चाहते। उनके राज में मुस्लिमों पर अत्याचार बढ़ा है। हमारी संवेदनायें पाकिस्तान के साथ है।



राहुल गाँधी :- मोदी जी केवल एक विचारधारा सब पर थोपना चाहते हैं। इसलिये उन्होंने पहले तो पाकिस्तानियों को खूब मारा और फिर जब उनकी बल्लेबाजी आयी,तो जल्दी आउट कर दिया। ये उनकी आवाज दबाने की कोशिश है। उन्हें भी हक है चौके छक्के मारने का। उन्हें भी हक था कि वो पुरे 48 ओवर्स बल्लेबाजी करते। इस तरह आप उन्हें नही हरा  सकते। आप उनका हक छीन रहे हो ।हम उनके हक के लिए हमेशा लड़ते रहे हैं, और आगे भी लड़ेंगे। हम मोदी जी से डरने वाले नही हैं।



के सी त्यागी :- देखिये,क्रिकेट एक सेक्युलर खेल है, और यही इसकी खूबसूरती है। आप इस तरह किसी को नही हरा सकते । मैं मानता हूँ कि अंतिम के ओवरों में कोहली को ज्यादा आक्रामक नही होना चाहिए था, और पंड्या ने जो लगातार तीन छक्के मारे मैं उससे बिल्कुल भी सहमत नही हूँ। ऐसा नही होना चाहिये था।यह घटना दुखद घटना है। मैं इसकी निंदा करता हूँ।



मुलायम सिंह यादव :- पाकिस्तान को जिताने के लिये अगर मुझे कई खिलाड़ियों के टिकट काटने पड़ते,तो भी मैं पीछे नही हटता।



लालू यादव :- हॉप बुड़बक, ई कौनो अपने से जीता है।मोदिया जितवाया है सबके।ई सब संघी विचारधारा के लोग भारत के लिए खतरा है।बताईये त, अपना बेरी चार बार पानी गिरवाये, सुस्ता सुस्ता के बैटिंग किए.... अउ जब पाकिस्तान का बारी आया तो धूप निकलवा दिये। एतना गर्मी में कौन खेले पायेगा। अब देखियेगा, हम सब ऊपरे वाला मिल के ई सब संघी लोग के कैसे आउट करेंगे....जाइये रहे हैं दिल्ली।
☺☺