ad

Friday, 17 February 2017

सो रहा ओढ़े तिरंगा , लगा के बाज़ी जान की

प्रिय मित्रो
समय २ पर अपने देश के वीर सैनिकों के बलिदानों की घटनाएँ समाचार पत्रों में प्रकाशित होती रहती हैं ।हर वार मेरा मन व्यथित होता है । आज सुबह से ही न जाने क्यों मेरे मन में व्यथा के भाव अंकुरित होने लगे । प्रस्तुत हैं टूटे फूटे शब्दों में मेरे उद्गार ।


१- हो रहा उद्घोष नभ में ,
"जय मेरे इस लाल की "
सो रहा ओढ़े तिरंगा ,
लगा के बाज़ी जान की ।

२- शांत थी पीकर के आँसू ,
जननि जय माँ भारती ,
ले कर में दीप माटी का ,
उतारने को आरती ।

३- हो गयी है देह छलनी ,
समर के उस अजिर में ,
रंग गयी होगी वो भूमि ,
लहू लाल रंग लाल में ।

४- छाई है चेहरे पर अजब ,
शांति आत्म संतोष की ,
छोड़ी न भूमि इंच भर भी ,
लगा कर बाज़ी प्राण की ।

५- विलख रही भर २ के लोचन ,
प्यारी सी अर्द्धांगिनी ,
डूब गये शोक सागर में ,
विरहा की विरहाग्नि ।

६- दिया सलामी शस्त्र वीर को ,
शीश नवाया मान में ,
दो मिनिट मौन धारण धर , 
खो गए जन यादों में ।

७- उतार दिया था क़र्ज़ धरा का ,
जननी के इस लाल ने ,
अंबर से की सुमन व्रष्टि ,
चढ़ विमान पर देवों ने ।

८- नाज कोख पर आज है अपनी ।
इस सपूत की जननी को ,
स्वर्ण अक्षरों में लिख गाथा ,
गया वीर गो धाम को ।

९- "व्यर्थ नहीं होगी क़ुर्बानी ",
कहे तेरी माँ लाल मेरे ,
कर देंगे दुश्मन के खट्टे ,
दाँत देश के वीर तेरे ।

१०- आज विदाई की बेला पर ,
मिल कर लें संकल्प सभी ,
होंगे भर्ती सैना में जब ,
पट्टो देश के युवा सभी ।

११- नेताओं को भी आगे ,
आकर कुछ करना होगा ,
समझेंगे तब लहू की क़ीमत ,
जब सैनिक निज सुत होगा ।

विनोद पट्टो जी

Rasele Jokes

 पति  : सब्जी में नमक, मिर्च, मसाला कुछ डाला हुआ लग नही रहा....और थोडी कच्ची भी है

पत्नी  :-  तुम तो कुछ भी बकते रहते हो.... फेसबुक पर ३०३ लोगोने लाईक किया है और  १०५ लोगोंके  मुँह में पानी आया है
.
.
.
लड़का- happy Valentine day
बुंदेलखंडी girl - हमाये इते नई मनात !!
दद्दा खतम हो गये हते सो खोटी है !!
.
.
.
.
 "उम्र लंबी करने के लिये" ....
    खुराक आधी करें, 
           पानी दोगुना करे,
      व्यायाम तिगुना करे, 
             हंसना चौगुना करे 
और 
घरवाली का कहना मानना सौगुना  करे.!!...
.
.
.


*2017 की नई डिमांड*

.

*WhatsApp* का भी  *ड्राइविंग_लाइसेंस* होना चाहिए।... 
कुछ लोग *अँधा_धुंध* चला रहे हैं......
.
.
.
.
एक आज्ञाकारी पुत्र की कलम से......... 
चाहे सारा जग रूठ जाए मुझे इसकी परवाह नहीं,
..
बस मेरी "माँ ".....
.
.
.
.
की बहू नहीं रूठनी चाहिए ।.
.
.
.
 *सपा:* -- हम आपको कूकर देंगे, घी और मिल्क पाउडर देंगे, मोबाइल और साइकिल देंगे, सुई और खरबूजा भी देंगे..

*जनता:* -- और नौकरी मालिक..?

*सपा :*-- वो हमारे *मामा के साढ़ू के भतीजे* के लिए है, जबान दे चुके हैं हम.....
.
.
.
.
 अब ये *अफवाह*
किसने 
फैलायी कि...

.
.
.
'Valentines Day' को 
*व्रत* रखने पर
|
|
|

अगले साल *नयी बीवी* मिलेगी????

.
.
.
.
 आज मेरी कामवाली बरतन बहुत पटक रही थी
*
*
जब मैंने पूछा तो बोली "मेरा काम बोलता है"
.
.
.
.
 मंदिर में पुरूष ही 
पुजारी क्यों होते हैं ?
ताकि लोग 
भगवान पर ध्यान दें

.
.
.
.
 Wife:- I'm going to the CSD Military Canteen, Do you want anything?

Husband:- I want a sense of meaning & purpose in my life. I seek fulfillment and completeness to my soul, I want to connect to God and discover the spiritual side to me.

Wife:- Be specific, *Blender's Pride* Or *Royal Stag*?

Majedar Jokes in Hindi

 Valentine special....
Boy: "I love you"
Girl: "Are you mad? I'm married. I have a husband. I have a boyfriend in my office and my ex boyfriend is still my neighbor. My boss proposed to  me yesterday and I can't say NO to him. And I have one serious extra marital affair..."
Boy (after a long pause): "Dekh lo kahin adjust hota ho to."
.
.
.
.
 पति: रात तुम सोती हुई,
बहुत ही ख़ूबसुरत लग रही थी,
पत्नी: तो जगाया क्यों नहीं
एक सेल्फी ही ले लेती,
.
.
.
.
 डाक्टर साब थके -माँदे घर लौटे। दरवाजा खोलते ही....
पत्नी- पता है परसों "रोज डे" था !!
डाक्टर साब- hmm.
पत्नी-और पता है कल चॉकलेट डे था !!
डाक्टर साब-Hummmm!!
पत्नी (रोमांटिक होकर)-अब आप बताओ , आज क्या है ??
डाक्टर साब- (झल्लाकर).
.
.
.
"राष्ट्रीय कृमि दिवस"है , अल्बेंडाजोल खायेगी ??
.
.
.
.
 *Valentine's special*
मोहब्बत अधूरी ही रहे तो अच्छा है...
पूरी हो जाये तो महबूब के घर के झाड़ू_पोंछा,बर्तन,कपड़े सब धोने पड़ते हैं .
.
.
.
 जनता जिसे चुनती है वो ' संसद ' में बैठते है
और
भगवान जिसे चुनते है वो " सत्संग " मे बैठते है।
हमें तो ना जनता ने चुना है ना भगवान ने ,
सो
Whatsapp पे ही बैठे है ।
.
.
.
.
गली में जब क्रिकेट  खेलते थे तो अंपायर  के आउट देने पर उसको
सिर्फ एक ही बात बोली जाती थी....
.
.
.
खाजा अपनी माँ की कसम
की मैं आउट हूँ...
.
.
.
.
एक आदमी था
उसने दारु पीना बंद कर दिया.!!
उसका लिवर तो बच गया
परंतु
उसके पास कोई दोस्त नही बचा ..