ad

Sunday, 20 November 2016

मोदी जी द्वारा नोटबंदी पर मस्त चुटकुले

मोदी जी द्वारा नोटबंदी  पर मस्त चुटकुले  


अभी भी समय है शौचालय बनवा लो 🚽
बन्दे का कोई पता नही
कब पटरीयो पर करंट छोड़ दे 😝
.
.
.
.
.
 असली दिक्कते तो
बिचारे पुलिस वाले और
इनकम टेक्स वालो की है
आपका पकड़े या
अपना ठिकाने लगाये ।
😝😆😝
.
.
.
.
.
 आज सनी लीओन जब 3 करोड कैश बैंक में जमा करवा के बहार निकली तो IT deptt वालो ने घेर लिया -
मैडम income का source दिखाओ !!!😀
.
.
.
.
.

आज के दिन....
.
.
जेब में चाहे समोसा खरीदने भर पैसा न हो.....
.
लेकिन.....
.
.
गाड़ी की टंकी सबकी फुल है।
.
.
.
.
.
*इस बार बहुत ठंड लगेगी.!*
क्योंकि सबकी...
*पैसे की गरमी निकल गई😜*
.
.
.
.
.एक बुजुर्ग बैंक की लाइन में खड़े होकर मोदी सरकार को गाली दे रहे थे
तभी कुछ लड़को ने उस बुजर्ग को समझाया की आप जिस तरह लाइन में खड़े ही आज उसी तरह हर रोज देश के सिपाही हमारे लिए खड़े रहते हे
ये सुनकर बुजुर्ग ने लड़को की तरफ देखते हुए कहा की
भोसडीको में आर्मी से ही रिटायर्ड हुआ हु।
बाप को चोदना मत सीखा.
.
.
.
.
.
एक मारवाड़ी बैंक जार 2.50 लाख रिपिया मांग्या ।
मेनेजर :- ब्याव किंको है ?
मारवाड़ी:- तुलछाँ🌿 जी को 😊
मेनेजर 4 दिना हु बेहोश है 😜
.
.
.
.
.
 सवाल यह नही के नोट क्यु ओर केसे बन्द हुवे बल्कि सवाल तो यह हे
😳
किया वाकई सोनम गुप्ता बेवफ़ा हे
😂😂😂😂😂
.
.
.
.
.
.
पिछले साल 3 सवालों ने बहुत परेशान किया?
1)कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा?
2)सलमान खान की गाड़ी कौन चला रहा था?
3)इंद्राणी मुख़र्जी के कितने पति थे?
उस से उबर नहीं पाए थे कि नए सवाल आ गए,
1)नरेंद्र मोदी को नोटबंदी का आईडिया किसने दिया?
2)डोनाल्ड ट्रम्प राष्ट्रपति कैसे बन गया?
3)सोनम गुप्ता बेवफा क्यों बनी?
.
.
.
.
.
.
आज दो ऐसे सटीक 'नोट' प्राप्त हुए जो लोकतंत्र के २ प्रमुख स्तम्भ - न्यायपालिका और राजनीतिज्ञों - की छटपटाहट को दर्शाता है!!
न्यायपालिका -
चीफ जस्टिस  साहेब ,
आपसे हमारा   विनम्र  निवेदन है कि  आप  बैंकों  की  लाईन  और  हमें  हो  रही  तकलीफें  हम  पर  छोड  दें ।
आप  तो  कृपया  करके  न्यायालय  में  लगी लंबी   लाईने और  वहां  फैले  व्यापक  भ्रष्टाचार एवं   काले  धन  के  उपयोग  पर  अंकुश  लगाऐ ।
आपकी  नाक के  नीचे  क्या  हो रहा है , उसपर  ध्यान  देंगे  तो  आम  जनता  का  बहुत  भला होगा ।
और  हां  हमें  न्याय  सस्ता और जल्द  सुलभ  हो  इसपर  संज्ञान अवश्य  ले  ।
पर उपदेश  कुशल  बहुतेरे. . . . . . . .
राजनीतिज्ञ -
तुम पांच सौ के लिए दिन भर लाइन में लगे रह सकते हो ....!
तो जिनके अरबों डूब गए ...
क्या वो दिन भर संसद में हंगामा भी न करें ...???