ad

Thursday, 25 August 2016

आगामी चुनावी स्टेशन

एक सज्जन बनारस पहुँचे। स्टेशन पर उतरे ही थे कि एक लड़का दौड़ता आया
‘‘मामाजी ! मामाजी !’’—लड़के ने लपक कर चरण छूए।
वे पहचाने नहीं। बोले—‘‘तुम कौन ?’’
‘‘मैं मुन्ना। आप पहचाने नहीं मुझे?’’ ‘
‘मुन्ना ?’’ वे सोचने लगे।
‘‘हाँ, मुन्ना। भूल गये आप मामाजी ! 
खैर, कोई बात नहीं, इतने साल भी तो हो गये।’’ ‘मैं आजकल यहीं हूँ।’’
‘‘अच्छा।’’
‘‘हां।’’
मामाजी अपने भानजे के साथ बनारस घूमने लगे। चलो, कोई साथ तो मिला। कभी इस मंदिर, कभी उस मंदिर। फिर पहुँचे गंगाघाट। बोले कि सोचा रहा हूँ , नहा लूँ ‘‘जरूर नहाइए मामाजी ! बनारस आये हैं और नहाएंगे नहीं, यह कैसे हो सकता है?’’
मामाजी ने गंगा में डुबकी लगाई। हर-हर गंगे। बाहर निकले तो सामान गायब, कपड़े गायब !
लड़का...मुन्ना भी गायब !
‘‘मुन्ना...ए मुन्ना !’’
मगर मुन्ना वहां हो तो मिले। वे तौलिया लपेट कर खड़े हैं।
‘‘क्यों भाई साहब, आपने मुन्ना को देखा है ?’’ ‘‘कौन मुन्ना ?’’
‘‘वही जिसके हम मामा हैं।’’
लोग बोले ‘‘मैं समझा नहीं।’’
‘‘अरे, हम जिसके मामा हैं वो मुन्ना।’’
वे तौलिया लपेटे यहां से वहां दौड़ते रहे। मुन्ना नहीं मिला।
** ठीक उसी प्रकार ........
भारतीय नागरिक और भारतीय वोटर के नाते हमारी यही स्थिति है मित्रो !
चुनाव के मौसम में कोई आता है और हमारे चरणों में गिर जाता है। मुझे नहीं पहचाना मैं चुनाव का उम्मीदवार। होने वाला एम.पी.।
मुझे नहीं पहचाना ........?
आप प्रजातंत्र की गंगा में डुबकी लगाते हैं।
बाहर निकलने पर आप देखते हैं कि वह शख्स जो कल आपके चरण छूता था, आपका वोट लेकर गायब हो गया।
वोटों की पूरी पेटी लेकर भाग गया। 
समस्याओं के घाट पर हम तौलिया लपेटे खड़े हैं।
सबसे पूछ रहे हैं —क्यों साहब, वह कहीं आपको नज़र आया ? अरे वही, जिसके हम वोटर हैं। वही, जिसके हम मामा हैं।
पांच साल इसी तरह तौलिया लपेटे, घाट पर खड़े बीत जाते हैं।.......
"आगामी चुनावी स्टेशन पर ............... ­ ­. भांजे आपका इंतज़ार करेंगे....

Gyani ji ka gyan . A meeting with GOD

A meeting with GOD..........भगवान् से मिलन 
             एक 6 साल का छोटा सा बच्चा अक्सर भगवान से मिलने की जिद किया करता था। उसे भगवान् के बारे में कुछ भी पता नही था , पर मिलने की तमन्ना, भरपूर थी। उसकी चाहत थी की एक समय की रोटी वो भगवान के साथ बैठकर खाये।
1 दिन उसने 1 थैले में 5 ,6 रोटियां रखीं और परमात्मा को को ढूंढने के लिये निकल पड़ा।
      चलते चलते वो बहुत दूर निकल आया संध्या का समय हो गया।
उसने देखा एक नदी के तट पर 1 बुजुर्ग माता बैठी हुई हैं, जिनकी आँखों में बहुत ही गजब की चमक थी, प्यार था, किसी की तलाश थी , और ऐसा लग रहा था जैसे उसी के इन्तजार में वहां बैठी उसका रास्ता देख रहीं हों।
        वो 6 -7 साल का मासूम बालक बुजुर्ग माता के पास जा कर बैठ गया, अपने थैले में से रोटी निकाली और खाने लग गया।
      फिर उसे कुछ याद आया तो उसने अपना रोटी वाला हाँथ बूढी माता की ओर बढ़ाया और मुस्कुरा के देखने लगा, बूढी माता ने रोटी ले ली , माता के झुर्रियों वाले चेहरे पे अजीब सी ख़ुशी आ गई आँखों में ख़ुशी के आंसू भी थे ,,,,
     बच्चा माता को देखे जा रहा था , जब माता ने रोटी खाली बच्चे ने 1 और रोटी माता को दे दी ।
माता अब बहुत खुश थी। बच्चा भी बहुत खुश था। दोनों ने आपस में बहुत प्यार और स्नेह केे पल बिताये।
,,,,
      जब रात घिरने लगी तो बच्चा इजाजत लेकर घर की ओर चलने लगा और वो बार- बार पीछे मुडकर देखता ! तो पाता बुजुर्ग माता उसी की ओर देख रही होती हैं ।
      बच्चा घर पहुंचा तो माँ ने अपने बेटे को आया देखकर जोर से गले से लगा लिया और चूमने लगी,
बच्चा बहूत खुश था। माँ ने अपने बच्चे को इतना खुश पहली बार देखा तो ख़ुशी का कारण पूछा,
तो बच्चे ने बताया!
      माँ ! ....आज मैंने भगवान के साथ बैठकर रोटी खाई, आपको पता है माँ उन्होंने भी मेरी रोटी खाई,,, पर माँ भगवान् बहुत बूढ़े हो गये हैं,,, मैं आज बहुत खुश हूँ माँ....
       उधर बुजुर्ग माता भी जब अपने घर पहुँची तो गाव वालों ने देखा माता जी बहुत खुश हैं, तो किसी ने उनके इतने खुश होने का कारण पूछा ..??
      माता जी बोलीं,,,, मैं 2 दिन से नदी के तट पर अकेली भूखी बैठी थी,, मुझे पता था भगवान आएंगे और मुझे खाना खिलाएंगे।
      आज भगवान् आए थे, उन्होंने मेरे सांथ बैठकर रोटी खाई मुझे भी बहुत प्यार से खिलाई, बहुत प्यार से मेरी ओर देखते थे, जाते समय मुझे गले भी लगाया,, भगवान बहुत ही मासूम हैं बच्चे की तरह दिखते हैं।
        इस कहानी का अर्थ बहुत गहराई वाला है।
  वास्तव में बात सिर्फ इतनी है की दोनों के दिलों में ईश्वर के लिए  अगाध सच्चा प्रेम था ।
     और प्रभु ने दोनों को , दोनों के लिये, दोनों में ही  ( ईश्वर) खुद को भेज दिया।
जब मन ईश्वर भक्ति में रम जाता है तो, हमे हर एक जीव में वही नजर आता है।
 

Jokes iPhone6

एक औरत iPhone 6S जेब में डालकर
रास्ते पर चल रही थी 
.
.
,
की पैर फिसला और गिर पडी..  
,
तभी कुछ खटाक से टूटने की आवाज़ आई !!
,
.
दिल थाम कर वो बोली..
,
"भगवान् करे हड्डी हो.." 

Tuesday, 23 August 2016

Jokes............. बीवी : मैं तुमसे नाराज़ हूँ ....

 Sakshi - Coach Kuldeep
Deepa - Coach Bisbeshwar
Sindhu- Coach Gopi
Now it's time for Indian men to say .' Behind every successful woman , there's a man'.
.
.
.
.
 पीवी सिंधु पर सोना लाने का दबाव मत बनाइये..






वो खिलाड़ी है,






आपकी बहू नहीं..
.
.
.
 बीवी : मैं तुमसे नाराज़ हूँ ....
Pati : मैंने क्या किया ???
बीवी :  तुमने सॉरी बोलकर मेरे लड़ाई के मूड का सत्यानाश कर दिया ...
.
.
.
.
"विज्ञान वरदान या अभिशाप" की अपार सफलता के बाद स्कूलों में एक नया निबंध पूछे जाने के आसार:



" Doctor; उपाधि या कलंक"
.
.
.
.
 बस यही सोच कर हर मुश्किलों से लड़ता आया हूं...!!
धूप कितनी भी तेज हो समुंदर नहीं सूखा करते......!!!
.
.
.
 उसने कहा हमसे.. हम तुम्हें बर्बाद कर देंगे. हमने मुस्कुरा के पूछा… क्या तुम भी मोहब्बत करोगे अब हमसे..??
.
.
.
.

My Wife was asking me today
When does the Men's Olympics start*
.
.
.
.
 "विज्ञान वरदान या अभिशाप" की अपार सफलता के बाद स्कूलों में एक नया निबंध पूछे जाने के आसार:



" Doctor  उपाधि या कलंक"
.
.
.

बड़े अजीब मुकाम पर है,
हमारा देश
बेटियां गोल्ड के लिये जान लड़ा रही है
बेटे गोल्ड-फ्लैक से
फेफड़े सड़ा रहे है...
.
.
.
 कोई सुलह करा दे
अब जिंदगी की उलझनों से.!
बड़ी तलब लगी है
आज मुस्कुराने की.....!!
 

Friday, 19 August 2016

Jokes ..... Rakshabandhan is like a mafia deal -

 "बाहुबली" फ़िल्म देखने के बाद अब ये अफ़वाह किसने फैलायी कि
"कटप्पा" की पत्नी का नाम सिलबट्टा है,
बेटी का नाम दुपट्टा
और पोते का नाम
देसी कट्टा है और
सुनने में आया है कि उसके गाँव का नाम हड़प्पा है...
उसका favourite food "गोलगप्पा" है'
और सूत्रो के हवाले से पता चला है...
कटप्पा के खानदान का आखिरी वारिस क्रिकेटर राबिन उथप्पा है।
.
.
.
.
 जिसने भी लिखा अच्छा लिखा
एक बार मेरे कमरे में 5-6 सांप घुस गए। मैं परेशान हो गया, उसकी वजह से मैं कश्मीरी हिंदुओं की तरह अपने ही घर से बेघर होकर बाहर निकल गया। इसी बीच बाकी लोग जमा हो गए। मैंने पुलिस और सेना को बुला लिया।
अब मैं खुश था कि थोड़ी देर में सेना इनको मार देगी ।
तभी कुछ पशु प्रेमी और मानवतावादी आ गये, बोले की नहीं आप गोली नहीं चला सकते, हम पेटा के तहत केस कर देंगे।
सेना वाले उसको ढेला मारने लगे, सांप भी उधर से मुंह ऊँचा करके जहर फेंकने लगे।
एक दो सांप ने तो एक दो सैनिक को काट भी लिया पर भागे नहीं।
फिर इतने में कुछ पडोसी मुझे ही बोलने लगे,
क्या भाई तुम भी बेचारे सांप के पीछे पड़े हो,
रहने दो, क्यों भगा रहे हो ?
उधर प्रशासन ने खबर भिजवा दिया, सांप के मुंह में जहर नहीं होना चाहिए, उसके मुंह में दूध दे दो
तो वो मुंह से जहर की जगह दूध फेंकेगा।
..... मैं हैरान परेशान...
फालतू में बात का बतंगड़ हो चुका था। न्यूज़ भी चलने लगे थे।
एनडीटीवी के रबिश ने कह दिया कि सबको जहर नजर आता है सांप नजर नहीं आता, उसकी भी जिंदगी है।
बरखा दत्त चीख़ चीख कर कहने लगी की ये तो भटके हुए संपोले हुए हैं, मकान मालिक इनको बेवजह परेशान कर रहा है ।
मकान मालिक को चाहिए कि वह इनको अपने घर में सुरक्षित स्थान पर इनको बिल बनाकर रहने दे और इनके खाने पीने का भरपूर ध्यान रखे।
इसी बीच एक सैनिक ने पैलेट गन चला दी और एक सांप ढेर हो गया ।
मुझे आशा जगी, सेना ही कुछ कर सकती है ।
तभी भाँड मीडिया ने कहा, पैलेट गन क्यों चलाया, सांप को कष्ट हो रहा है ।
अभी कोई कुछ सोचता उससे पहले ही हाइकोर्ट का भी फैसला जाने कहाँ से आ गया कि सांप पर पैलेट गन नहीं चला सकते इस गन से उसकी आँखे और चेहरा ख़राब हो सकता है।
उधर आम आदमी पार्टी ने कह दिया कि वहाँ जनमत संग्रह हो कि उस घर में सांप रहेगा या आदमी।
कुल मिलकर सांप को जीने का हक़ है इस पर सब एकमत हो गए थे।
इतने में जो मेरा पडोसी मेरा घर कब्ज़ा करना चाहता था वो सांप के लिए दूध, छिपकली और मेढक लेकर आ गया, उसको खिलाने लगा ।
उसकी मदद तथाकथित बुद्धिजीवियों, मानवतावादियों और पत्रकारों ने कर दी और पडोसी को शाबाशी दी।
मैं निराश होकर अब दूर से सिर्फ देखता था।
काश........
*मैंने खुद लाठी लेकर शुरू में ही इन सांपो को ठिकाने लगा दिया होता तो आज ये दिन ना देखना पड़ता।*
.
.
.
.
पति बाथरूम में घुसा
और नहाने के बाद :-
अरे सुनो ,
ज़रा तौलिया देना ।
पत्नी (चिल्ला के ) :-
हमेशा बिना तौलिये के नहाने जाते हो ।
अब मैं चाय बनाऊँ या तौलिया दूं ।
बनियान भी धो के नल पे टांग देते हो
वो भी मैं उठाऊं ।
नहाने के बाद वाइपर भी नहीं चलाते ।
कल लाइट भी खुली छोड़ दी थी तुमने ।
गीले गीले बाहर निकलोगे तो
पूरे घर में गीले पैरों के निशान बना दोगे ।
फिर उस पे मिटटी पड़ेगी तो
सब जगह गन्दी हो जाएगी ।
एक बार नौकरानी उसपे फिसल गयी थी ।
फिर ३ दिन तक नहीं आई ।
मेरा क्या हाल हुआ था काम कर कर के ।
पति (मन में सोचते हुए ) :-
साला ,
नहा के गलती कर दी
या शादी करके !!!!!!!!
.
.
.
 *पत्रकार:- सर एक 'धरना' है।*
*केजरीवाल:- कहाँ????*
*पत्रकार:- कान के नीचे।*
.
.
.
.

ज्योतिषी : तुम्हारा नाम कविता है ?
कविता : जी महाराज
ज्योतिषी : प्रीत तेरे पति का नाम है ?
कविता : जी जी महाराज (हाँथ जोड़ते हुए)
ज्योतिषी : तेरे दो लड़के और एक लड़की है ?
कविता : जी जी महराज (आश्चर्य से झुक कर
प्रणाम करते हुए)
ज्योतिषी : तूने कल 10 किलो चावल खरीदे है ?
कविता : पैरो पर गिर कर महराज आप तो अंतरयामी
हो
ज्योतिषी : अगली बार कुंडली लाना राशन कार्ड
नही.
.
.
.
 कुछ इस तरह से बदल रहा है मेरे शहर का नज़ारा,
किसी अपने को सच बोल दो तो ख़त्म हो जाता है भाईचारा !!
.
.
.
.
 A doctor had a fight with his wife.

Angry wife took revenge by eating an apple every night!
.
.
.
.
.
 एक उमर से हूँ तेरी यादों की कैद में
मेरी ज़िदगी में कोई 15 अगस्त नहीं...!!!!!
.
.
.
.
 In absolutely lighter vein:
Rakshabandhan is like a mafia deal -
There is a "Bhai" involved,
There is money exchanged
And there is protection offered.
.
.
.
.
Virendra Sehwag has tweeted perhaps the most amazing message for Sakshi. He said "This is what happens when you don't kill a girl child"
.
.
.
.
We missed 4 Possible Gold Medals this Olympics:
1)Baba Ramdev for Gymnastics.
2) Salman Khan for
Shooting

3) Vijay Mallya for Long Jump &
4) Arnab Goswami for 'Discuss'.

Jokes.................*पतिदेव के लिए आ रही हैं ये दवाइयाँ*

*पतिदेव  के  लिए  आ  रही  हैं  ये दवाइयाँ*
.
.
.

*फीमेल  वैज्ञानिकों  द्वारा  नई  ईजाद की  गयी  दवाईयां  सिर्फ  पतियों  के लिए  जिन्हें  सरकार  की  अप्रूवल  का इंतज़ार है..!

*⚡ANIVERSIA*
*यह  दवा  Birthday  व anniversary  की  याद  दिलाने  में कारगर  होगी,

*⚡SLIMOXIL*
*आँखों  के  कोर्निया  को  छोटा  करके  पत्नियों  को  पतला  व  सुन्दर दिखाने  में  कारगर..

*⚡SPORTOBLIND-X*
*आपटिक  नर्व  से  रियेक्ट  करती  है इससे  पति  टीवी  में Sports  शब्द नहीं  पढ़  सकेगा..

*⚡WORKOCETAMOL*
*घरेलु  कार्य  जैसे  खाना  बनाना बर्तन  मांजना  झाड़ू  लगाना  आदि  की  अति  तीव्र  इच्छा  जागृत  करती है...

*⚡SHOPHOFOBEX*
*पति  को  इस  हद  तक  दीवाना करदे  की  पत्नी  को  रोज़  शॉपिंग  पर  लेकर  जाए  व  शॉपिंग  पर  पत्नी को  ले जाने  के  लिए  पागल  हो जाए..

*⚡FLIRTONATE-N*
*सुन्दर  पर  स्त्री  के  पास  से  गुज़रने पर  आँखों  की  रोशनी तुरंत  कम करती  है..

*⚡VERYTASTYMYCIN*
*इस  दवा  से  पति  हमेशा  पत्नी  के खाना  बनाने  पर  उसकी  पाक  कला की  तारीफ़  करेगा..

*जन हित में जारी*