ad

Thursday, 29 October 2015

Attention Doctors ..........Why doctors do not unite for an impactful agitation in an adverse event & THE NEW 'QUIT INDIA' MOVEMENT ?


Few reasons -

Why doctors do not unite for an impactful agitation in an adverse event  :

Ego :      
Nobody called me to support / act /come to the venue of assault/meeting .why bother ?

Safety :      
I have a roaring work/practice.none of my pts will ever  assault on me.

Cadre :
I am the most knowledgeable amongst my colleagues. such incidences happen to only those who are less in their knowledge.

Honesty :
I am an honest doctor .other all doctors who invite such assault are basically doing mal-practice. .

Humbility :
I usually don't go to IMA /speciality meets.
nobody will miss me !!

Sex :
Lady doctors should refrain from such hulla-gulla.
or i will send my husband. l will take care of the work.

Branch :
The injured doctor is not from my speciality.his friends should fight for him.why me ?

Income :
No logic of missing todays collection.let me see whatever few pts come to me today. i will show my face for few mts in my free hours.

Emotional distance :
I  , otherwise also , dont meet this doctor/s frequently .i find it difficult to feel emotionally attached to him/them.

Prejudice :
Only whiskey lovers /greedy so called leaders enjoy IMA /
conferences etc.i dont enjoy them.i will NEVER NEED their support in my life.

Excuse :
I can always say i had emergency. nobody will doubt my real wish of avoiding participation.

Lip service :
I will send burning comments on social media.i dont have to co- operate any furthur.

Fence sitters :
Let me see for some time . if many join the rally / strike then i will think about it .no need to take initiative .

Pressures :
My establishment is really big. i don't want to annoy / fight the civil authorities of the town .it will harm me in future.

The last reason ;
NO REASON.BUT JUST AVOID  IT.  Cool !!?

उपर बताए कारणों में यदि एक कारण 2℅ चिकित्सकों पर ही सही बैठता है तो 30 से 40% चिकित्सक किसी भी ऐसे आंदोलनों में शामिल न होकर उसे कमजोर /असफल  बना देते हैं । 
            पर ध्यान रहे :
आपके साथ भी ये मारापीटी कभी भी हो सकती है ।क्योंकि लोगों को आपके ""चिकित्सक होने से ही चिढ़ है "''और असामाजिक तत्व तथा सरकारी तंत्र ये जानते हैं कि चिकित्सक जगत कभी UNITED नहीं हो सखता !!

समाज और सरकार को आपको अपनी एकता और उसके शक्तिशाली प्रभाव को समझाना पड़ेगा । तभी आप पर अन्याय / हमले होना बंद होंगे वरना क्या पता कल आपके ही साथ............
JOIN and
JUSTIFY 
.
.
.
.

THE NEW 'QUIT INDIA' MOVEMENT ?


As a law abiding doctor in medical profession for 22 years now, sometimes I really doubt that where exactly is this nation and its healthcare heading to.

1. An honest highly qualified Radiologist who is willing to co-operate with the silly law like PCPNDT is liable to go to jail even for a small mistake in a 3 page form F ...BUT AN UNREGISTERED UNQUALIFIED QUACK CAN PRACTISE SEX DETERMINATION WITH HELP OF A HAND HELD CHINESE MACHINE without fear.

2. A patient can ask to a doctor openly that "is sex determination possible at your place ?... BUT A DOCTOR HAS TO GIVE IT IN WRITING EVERY DAY...FOR EVERY SONOGRAPHY that he has neither detected nor disclosed the sex.
Just imagine a minister taking oath from the president every time he enters his office...or a bureaucrat signing a paper on each file that he is not going to be corrupt...or the court proceeding requiring everyone in the court to vouch with The GEETA/QURAN/BIBLE about speaking truth each time he opens his mouth.
This is how much the society has betrayed this noble profession... they are not happy YOU SIGNING THE AFFIDAVIT AT ONCE while registering in PCPNDT...THEY WANT YOU TO SAY IT EVERYTIME-EVERYDAY....worst treatment than a criminal.

3. In all the criminal cases the police-the procecuter have to prove that the accused is guilty...BUT IN PCPNDT IT IS THE RESPONSIBILITY OF THE DOCTOR TO PROVE THAT HE IS NOT GUILTY...IN FACT HE IS LABELLED AS A CRIMINAL and GUILTY BEFORE THE TRIAL IS COMPLETE...because his machine is sealed on suspicion alone...his reputation-image is maligned by publishing his name in media the very next day...and his registration suspended till the court aquits him at its own leisurely infinite schedule of tarikh pe tarikh.

4. A gunda /a politician can contest any election even if he is in jail...BUT A DOCTOR CAN NOT RENEW /REGISTER FOR A PCPNDT LICENCE just because he has a 'criminal case' for not filling some part of the FORM F

5. On one hand the government wants strict regulation/governance on all the imaging modalities (including CT /MRI...even A scan for ophthalmic ultrasound is being included as 'a scanner' by an over enthusiastic authority) but ON THE OTHER HAND A SIMPLE BLOOD TEST IS EASILY AVAILABLE FOR ANYONE ...WHICH CAN DETECT SEX AS EARLY AS 5 WEEKS OF PREGNANCY.

6. The government doesn't want a qualified well-trained Radiologist to visit more than 2 places and prevents him from utilusing his full potential BUT THEY WANT TO PROMOTE CREATING 'SONOLOGISTS' WITH MERELY 6 MONTHS TRAINING....BECAUSE THERE IS SCARCITY OF QUALIFIED RADIOLOGISTS IN THE NATION.

7. The judiciary is already crippled with a huge back log of millions of pending cases but THEY WANT TO CREATE THOUSANDS OF NEW 'CRIMINAL CASES' OUT OF minor clerical errors JUST TO HARASS the educated-white collar doctor. If ten thousand doctors are facing criminal cases in the ACT AGSINST SEX DETERMINATION, why are there not even 10 couples facing the same music ?

8. You are liable to face the charge of 'not practsing within limitations of your speciality' if you are a general physician and treat cardiac patients with your 'limited' knowledge (a recent high court verdict)   BUT ALL THE AAYUSH DOCTORS (and now the pharmacists also) have THE PERMISSION TO TREAT ANY AILMENT WITH MODERN ALLOPATHIC MEDICINES...EVEN IF THEY ARE NOT TRAINED IN PHARMACOLOGY (because there is SCARCITY of doctors in Rural India...the court says...IS THE LIFE OF A RURAL INDIAN LESS PRECIOUS THAN THAT OF AN URBAN ...to be treated carelessly by a half-baked inadequately qualified doctor ?! With the same logic, an auto driver should be allowed to fly an airplane because we don't have adequate pilots.

8. The super rich cricketers are showered with gifts and exemption of import tax...but taxes on life saving medical drugs/equipment (including all the imaging machines like USG CT MR have hardly changed)

9. A multiplex owner gets tax exemption for 5 years, IT industry gets enormous profits but have plenty of tax exemptions... BUT A DOCTOR OR A HOSPITAL who save lives of the citizens ARE LIABLE TO PAY ALL SORTS OF TAXES (property tax income tax profession tax octroi etc)...and yes only a doctor is supposed to give handsome concessions... Do charity in his fees...

10. Govt hospitals have gone to dogs because of non availability of good doctors and funds but THE PRIVATE HEALTHCARE SECTOR (small clinics and doctor-run small medium hospitals) WHICH CATERS TO 85 % OF THE POPULATION OF THIS VAST COUNTRY is systematically being crushed with unjust regulations like clinical establishment act...ONLY TO FAVOUR THE cash rich CORPORATE SECTOR

11. India has so many skilled IVF consultants and so many needy couples who are ready for donor eggs / surrogacy BUT THE NEW ART BILL is drafted with so much of vengeance against the doctors that ANY SANE /SENSIBLE SPECIALIST WILL KEEP HIM AWAY FROM DONORS/SURROGACY for all his life.
And all those poor needy women/widows who can earn some 4 lack rupees legitimately out of surrogacy to support their families will not have this option of lending their ovums/wombs to others. If blood donation and organ donation is a service to humanity...why is ovum donation/surrogacy being looked upon so scepticaly ? then why make the rules so complicated ?

12. After spending millions on IIT, an engineer can fly to US without paying a paisa to the nation...BUT A DOCTOR HAS TO COMPULSORILY SERVE THE GOVT FOR 2 YEARS.
This list can go on and on...but the real 'icing on the cake' is those ever increasing incidences of VIOLENCE AGAINST DOCTORS...just because in this era of consumerism the consumers want a 100 % result...always- without trying understand limitations of medicine as a science !

I just feel that there is a serious lack of common sense and complete absence of foresight amongst all the policy makers in HEALTHCARE... as a result- the inefficient but corrupt bureaucracy is going haywire, is not accountable for all the mess they all have created and resultantly the misery of the common population continues.

I am 'realistic' rather than 'optimistic' and hence feel that if this is the way INDIA treats its doctors...the day is not far when GOOD Indian doctors will be left with no choice but to 'QUIT INDIA'...the process has already begun (try talking to a few post graduate medical students...and you will realize)

Tuesday, 27 October 2015

प्रधानमंत्रीजी के नाम एक दुखियारी भैंस का खुला ख़त

प्रधानमंत्रीजी के नाम एक दुखियारी भैंस का खुला ख़त

प्रधानमंत्री जी,

सबसे पहले तो मैं यह स्पष्ट कर दूं कि मैं ना आज़म खां की भैंस हूं और ना लालू यादव की!

ना मैं कभी रामपुर गयी ना पटना! मेरा उनकी भैंसों से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं है।

यह सब मैं इसलिये बता रही हूं कि कहीं आप मुझे विरोधी पक्ष की भैंस ना समझे लें।

मैं तो भारत के करोड़ों इंसानों की तरह आपकी बहुत बड़ी फ़ैन हूं।

जब आपकी सरकार बनी तो जानवरों में सबसे ज़्यादा ख़ुशी हम भैंसों को ही हुई थी।

हमें लगा कि 'अच्छे दिन' सबसे पहले हमारे ही आयेंगे।लेकिन हुआ एकदम उल्टा! आपके राज में तो हमारी और भी दुर्दशा हो गयी।

अब तो जिसे देखो वही गाय की तारीफ़ करने में लगा हुआ है। कोई उसे माता बता रहा है तो कोई बहन! अगर गाय माता है तो हम भी तो आपकी चाची, ताई, मौसी, बुआ कुछ लगती ही होंगी!

हम सब समझती हैं। हम अभागनों का रंग काला है ना! इसीलिये आप इंसान लोग हमेशा हमें ज़लील करते रहते हो और गाय को सर पे चढ़ाते रहते हो!

आप किस-किस तरह से हम भैंसों का अपमान करते हो, उसकी मिसाल देखिये।

आपका काम बिगड़ता है अपनी ग़लती से और टारगेट करते हो हमें कि
देखो गयी भैंस पानी में
गाय को क्यूं नहीं भेजते पानी में! वो महारानी क्या पानी में गल जायेगी?
आप लोगों में जितने भी लालू लल्लू हैं, उन सबको भी हमेशा हमारे नाम पर ही गाली दी जाती है

काला अक्षर भैंस बराबर
माना कि हम अनपढ़ हैं, लेकिन गाय ने क्या पीएचडी की हुई है?

जब आपमें से कोई किसी की बात नहीं सुनता, तब भी हमेशा यही बोलते हो कि
भैंस के आगे बीन बजाने से क्या फ़ायदा!
आपसे कोई कह के मर गया था कि हमारे आगे बीन बजाओ? बजा लो अपनी उसी प्यारी गाय के आगे!

अगर आपकी कोई औरत फैलकर बेडौल हो जाये तो उसे भी हमेशा हमसे ही कंपेयर करोगे कि
भैंस की तरह मोटी हो गयी हो
करीना; कैटरीना गाय और डॉली बिंद्रा भैंस! वाह जी वाह!
गाली-गलौच करो आप और नाम बदनाम करो हमारा कि
भैंस पूंछ उठायेगी तो गोबर ही करेगी
हम गोबर करती हैं तो गाय क्या हलवा करती है?

अपनी चहेती गाय की मिसाल आप सिर्फ़ तब देते हो, जब आपको किसी की तारीफ़ करनी होती है-

वो तो बेचारा गाय की तरह सीधा है, या- अजी, वो तो राम जी की गाय है!
तो गाय तो हो गयी राम जी की और हम हो गये लालू जी के!
वाह रे इंसान! ये हाल तो तब है, जब आप में से ज़्यादातर लोग हम भैंसों का दूध पीकर ही सांड बने घूम रहे हैं।

उस दूध का क़र्ज़ चुकाना तो दूर, उल्टे हमें बेइज़्ज़त करते हैं! आपकी चहेती गायों की संख्या तो हमारे मुक़ाबले कुछ भी नहीं हैं। फिर भी, मेजोरिटी में होते हुए भी हमारे साथ ऐसा सलूक हो रहा है!

प्रधानमंत्री जी, आप तो मेजोरिटी के हिमायती हो, फिर हमारे साथ ऐसा अन्याय क्यूं होने दे रहे हो?

प्लीज़ कुछ करो! आपके 'कुछ' करने के इंतज़ार में – आपकी एक तुच्छ प्रशंसक!

Thursday, 22 October 2015

आज इस दशहरे की रात मैं उदास हूँ उस रावण के लिए ......................

जानकी के लिए / राजेश्वर वशिष्ठ




मर चुका है रावण का शरीर
स्तब्ध है सारी लंका
सुनसान है किले का परकोटा
कहीं कोई उत्साह नहीं
किसी घर में नहीं जल रहा है दिया
विभीषण के घर को छोड़ कर ।

सागर के किनारे बैठे हैं विजयी राम
विभीषण को लंका का राज्य सौंपते हुए
ताकि सुबह हो सके उनका राज्याभिषेक
बार-बार लक्ष्मण से पूछते हैं
अपने सहयोगियों की कुशल-क्षेम
चरणों के निकट बैठे हैं हनुमान !

मन में क्षुब्ध हैं लक्ष्मण
कि राम क्यों नहीं लेने जाते हैं सीता को
अशोक वाटिका से
पर कुछ कह नहीं पाते हैं ।

धीरे-धीरे सिमट जाते हैं सभी काम
हो जाता है विभीषण का राज्याभिषेक
और राम प्रवेश करते हैं लंका में
ठहरते हैं एक उच्च भवन में ।

भेजते हैं हनुमान को अशोक-वाटिका
यह समाचार देने के लिए
कि मारा गया है रावण
और अब लंकाधिपति हैं विभीषण ।

सीता सुनती हैं इस समाचार को
और रहती हैं ख़ामोश
कुछ नहीं कहती
बस निहारती है रास्ता
रावण का वध करते ही
वनवासी राम बन गए हैं सम्राट ?

लंका पहुँच कर भी भेजते हैं अपना दूत
नहीं जानना चाहते एक वर्ष कहाँ रही सीता
कैसे रही सीता ?
नयनों से बहती है अश्रुधार
जिसे समझ नहीं पाते हनुमान
कह नहीं पाते वाल्मीकि ।

राम अगर आते तो मैं उन्हें मिलवाती
इन परिचारिकाओं से
जिन्होंने मुझे भयभीत करते हुए भी
स्त्री की पूर्ण गरिमा प्रदान की
वे रावण की अनुचरी तो थीं
पर मेरे लिए माताओं के समान थीं ।

राम अगर आते तो मैं उन्हें मिलवाती
इन अशोक वृक्षों से
इन माधवी लताओं से
जिन्होंने मेरे आँसुओं को
ओस के कणों की तरह सहेजा अपने शरीर पर
पर राम तो अब राजा हैं
वह कैसे आते सीता को लेने ?

विभीषण करवाते हैं सीता का शृंगार
और पालकी में बिठा कर पहुँचाते है राम के भवन पर
पालकी में बैठे हुए सीता सोचती है
जनक ने भी तो उसे विदा किया था इसी तरह !

वहीं रोक दो पालकी,
गूँजता है राम का स्वर
सीता को पैदल चल कर आने दो मेरे समीप !
ज़मीन पर चलते हुए काँपती है भूमिसुता
क्या देखना चाहते हैं
मर्यादा पुरुषोत्तम, कारावास में रह कर
चलना भी भूल जाती हैं स्त्रियाँ ?

अपमान और उपेक्षा के बोझ से दबी सीता
भूल जाती है पति-मिलन का उत्साह
खड़ी हो जाती है किसी युद्ध-बन्दिनी की तरह !

कुठाराघात करते हैं राम ---- सीते, कौन होगा वह पुरुष
जो वर्ष भर पर-पुरुष के घर में रही स्त्री को
करेगा स्वीकार ?
मैं तुम्हें मुक्त करता हूँ, तुम चाहे जहाँ जा सकती हो ।

उसने तुम्हें अंक में भर कर उठाया
और मृत्युपर्यंत तुम्हें देख कर जीता रहा
मेरा दायित्व था तुम्हें मुक्त कराना
पर अब नहीं स्वीकार कर सकता तुम्हें पत्नी की तरह !

वाल्मीकि के नायक तो राम थे
वे क्यों लिखते सीता का रुदन
और उसकी मनोदशा ?
उन क्षणों में क्या नहीं सोचा होगा सीता ने
कि क्या यह वही पुरुष है
जिसका किया था मैंने स्वयंवर में वरण
क्या यह वही पुरुष है जिसके प्रेम में
मैं छोड़ आई थी अयोध्या का महल
और भटकी थी वन-वन !

हाँ, रावण ने उठाया था मुझे गोद में
हाँ, रावण ने किया था मुझसे प्रणय निवेदन
वह राजा था चाहता तो बलात ले जाता अपने रनिवास में
पर रावण पुरुष था,
उसने मेरे स्त्रीत्व का अपमान कभी नहीं किया
भले ही वह मर्यादा पुरुषोत्तम न कहलाए इतिहास में !

यह सब कहला नहीं सकते थे वाल्मीकि
क्योंकि उन्हें तो रामकथा ही कहनी थी !

आगे की कथा आप जानते हैं
सीता ने अग्नि-परीक्षा दी
कवि को कथा समेटने की जल्दी थी
राम, सीता और लक्ष्मण अयोध्या लौट आए
नगरवासियों ने दीपावली मनाई
जिसमें शहर के धोबी शामिल नहीं हुए ।

आज इस दशहरे की रात
मैं उदास हूँ उस रावण के लिए
जिसकी मर्यादा
किसी मर्यादा पुरुषोत्तम से कम नहीं थी ।

मैं उदास हूँ कवि वाल्मीकि के लिए
जो राम के समक्ष सीता के भाव लिख न सके ।

आज इस दशहरे की रात
मैं उदास हूँ स्त्री अस्मिता के लिए
उसकी शाश्वत प्रतीक जानकी के लिए !

Monday, 19 October 2015

आज का सत्य --हिंदी चुटकुले

आज का सत्य --हिंदी चुटकुले 


नींद आखे बंद करने से नही
Net बंद करने से आती है..!!...

___________________________________

"भूखे को रोटी और android फ़ोन वाले को charger देना पुण्य का काम होता है.."

___________________________________

शाश्त्रों में लिखना रह गया था...सोचा बता दूँ...!"!
पहले लोग 'बेटा' के लिये तरसते थे..
और आजकल डेटा के लिये !

___________________________________

आज की सबसे बड़ी दुविधा.....
मोबाइल बिगड़ जाये तो बच्चे जिम्मेदार
और बच्चे बिगड़ जाये तो मोबाइल 
जिम्मेदार....

___________________________________

" बदल गया है जमाना पहले माँ का पेर छू कर निकलते थे,अब मोबाइल की बेटरी फुल करके निकलते है 

___________________________________

कुछ लोग जब रात को अचानक फोन का बैलेंस ख़त्म
होजाता है इतना परेशान हो जाते हैं माने जैसे सुबह
तक वो इन्सान
जिंदा ही नहीं रहेगा जिससे बात
करनी थी।

___________________________________

कुछ लोग जब फ़ोन की बैटरी 1-2%
हो तो चार्जर
की तरफ ऐसे भागते है जैसे उससे कह रहे
हो  "तुझे कुछ
नहीं होगा भाई ! आँखे बंद मत करना मैं हूँ न !
सब
ठीक हो जायेगा।

____________________________________

कुछ लोग अपने फोन में ऐसे पैटर्न लॉक लगाते हैं
जैसे आई एस आई की सारी गुप्त फाइलें
उनके फ़ोन में
ही पड़ी हो।

___________________________________

गलती से फ़ोन किसी दुसरे दोस्त के
यहाँ छुट जाए
तो ऐसा महसूस होता हैं जैसे
अपनी भोली-
भाली गर्लफ्रेंड
को शक्ति कपूर के पास छोड़ आये हो।


__________________________________

सभी मोबाइल बनाने वाली कंपनीओं वालों से निवेदन है कि वह मोबाइल फोन बड़ा करवाते जा रहे है तो ,
उसमे ऐसी व्यवस्था और करा दें कि पीछे के ढक्कन के अंदर दो परांठे, आलू की सुखी सब्जी और अचार आ जाये।
..................

जब मोदी जी वाइट हाउस पहुंचे

इस बार जब मोदी जी वाइट हाउस पहुंचे तो ओबामा घर पर नहीं थे.

घंटी बजाई तो वाइट हाउस के सेक्रेटरी ने दरवाजा खोला. उसने लपककर मोदी जी के चरण छुए और सोफे पर बिठाकर अन्दर मिसेज ओबामा को सूचित करने चला गया.

जब उसने मिशेल को बताया कि मोदी जी आये हैं तो उन्होंने मुँह बिचकाते हुए कहा – "फिर आ गए … ! हुंह ! जाओ जाकर पानी वानी पिलाओ और क्या ?"

सेक्रेटरी पानी लेकर आया, तब तक मोदी जी अपना सूटकेस खोल चुके थे. उसमें से इन्दोरी नमकीन, बीकानेरी भजिया और भिंड के पेडे के पैकेट निकाल कर देते हुए बोले – "इन्हें भीतर पहुंचा दो, बच्चों के लिए लाया हूँ."
सेक्रेटरी ने जब भीतर जाकर पैकेट मिशेल के हाथों में दिए तो मजबूरी में उन्हें अपना वो दुपट्टा ढूंढना पड़ा जिसे एक बार उनकी एक इंडियन फ्रेंड ने गिफ्ट किया था. उसे सिर पर डाल कर वो उस कमरे में आईं जहां मोदी जी बैठे हुए थे. औपचारिकतावश हाथ जोड़कर नमस्ते की.

मोदी जी बोले – "जुग जुग जिओ … सदा सुहागन रहो !"

मोदी जी को यूँ अपनेपन से आशीर्वाद देते देख मिशेल को अपने झुक कर प्रणाम न करने पर थोड़ी शर्मिंदगी सी हुई. दुपट्टे को सिर के थोडा और ऊपर खींच कर बोलीं – "ये सब लाने की क्या जरूरत थी ? बच्चे तो वैसे ही इतना पिज्ज़ा-बर्गर खाते रहते हैं."

मोदी जी ने आत्मीयता भरी डांट लगाते हुए कहा – "कैसी बात करती हो बहू ? जानती हो किसी के घर ख़ाली हाथ जाना शुभ नहीं होता !"
'बहू' सुनते ही मिशेल थोडा चौंकीं, पर कुछ बोली नहीं. हाँ, सिर के ऊपर दुपट्टा जरूर एक बार फिर संभाल लिया.

मोदी जी ने पूछा – "घर में सब कुशल-मंगल तो है ? बराक का कामकाज कैसा चल रहा है ? बच्चों की पढ़ाई-लिखाई वगैरा सब ठीक है न ?"
मोदी जी को यूँ राष्ट्रपति ओबामा को बेतकल्लुफी से सिर्फ 'बराक' कहते सुन, मिसेज ओबामा को एक बार फिर हैरत हुई, लेकिन बोलीं – "हां, सब ठीक ही है…"

मिसेज ओबामा का ये ठंडा सा जवाब सुन कर मोदी जी बोले – "क्या बात है बहू ? कुछ परेशानी है ?"

मिशेल बोलीं – "नहीं, कुछ ख़ास नहीं … सब ठीकठाक है !"
मोदी जी स्वर में थोड़ी नाराजगी लाते हुए बोले – "तुम्हारी आवाज बता रही है कि कुछ परेशानी है … बताओ क्या बात है ?

मिसेज ओबामा की आँखों में आंसू छलक आये. रुंधे गले से बोलीं – "वैसी कोई परेशानी नहीं है … धन दौलत शोहरत सब है आपके आशीर्वाद से … पर इनका (ओबामा का) घर पर ध्यान बिलकुल नहीं है ! न मुझे समय देते हैं न बच्चों को … सारी दुनिया के ठेकेदार बन गए हैं … हजारों दुश्मन बना लिए हैं सो अलग … मुझे रात-दिन खटका लगा रहता है, पर मेरी सुनता कौन है ? … मुझे तो लगता है कि मैं एक दिन ऐसे ही चिंता करते करते .."
"न न बहू !", मोदी जी बीच में बात ही काट कर बोले, "ऐसा नहीं कहते … तुम बिलकुल चिंता मत करो… मैं बराक से बात करूंगा.. मैं समझाऊँगा उसे !"

मिशेल का मन हुआ कि दौड़कर मोदी जी के चरण छू ले, पर संकोचवश ऐसा नहीं कर पाईं.

तभी मिशेल की दोनों बेटियाँ खेलते-खेलते वहाँ आ पहुँचीं.

मिशेल ने बड़ी बेटी से कहा – "बेटी ज़रा पापा को फ़ोन लगा तो सही, तब तक मैं चाय बनाती हूँ …"

"मम्मी, पर क्या बोलूँ पापा को ?", बेटी ने पूछा.

अब तो मिसेज ओबामा ने खालिस इंडियन बहू की तरह दुपट्टे का घूंघट काढ़ा, और शर्मा कर घर के अन्दर की ओर भागते हुए बोलीं –
"और क्या बोलेगी मुई … बोल कि दिल्ली  वाले ताऊजी आये है घर पे ! … जल्दी से आ जाइए !"

Sunday, 18 October 2015

मोक्ष पाने का क्या साधन है ? गुरु नानक देव और पंडित ब्रह्म दास की काश्मीर में वार्ता

मोक्ष पाने का क्या साधन है ?

गुरु नानक देव और पंडित ब्रह्म दास की काश्मीर में वार्ता


  
गुरु नानक पंजाब में अचल बटाला के सिद्धों से मिलकर काशमीर की तरफ चले । कहा जाता है कि आपने पैरों व् सिर को चमड़ों से और शरीर पर रस्सी लपेट रखी थी और माथे पर चंदन का तिलक लगा रखा था जैसे पूजा करने वाले हिन्दू लगाते हैं । काशमीर उस समय विद्वान पण्डितों से जाना जाता था और वह क्षेत्र चारवाहों, नदियों, झीलें और फूलों से सुसज्जित घाटियों और झरनों के लिए प्रसिद्द था । गुरु नानक के साथ हस्सु लौहार और सिहांन छिप्पी भी थे । गुरु साहिब ने एक दिन पहाड़ियों पर स्थित एक गुफा में बिताया जहाँ पर एक मुस्लिम चरवाहा याक और भेड़ों को चरा रहा था । गुरु की और बाकी लोगों की वेशभूषा देखकर मज़ाक के लहज़े में बोला, " क्या आप साधु हो या चोर? अगर आप साधु हो तो शहर में क्यों नहीं जाते? साधु का यहाँ क्या काम? शक्ल से तो आप भले आदमी लगते हो ?" गुरु नानक बोले, "बेटे, अपने जानवरों का ख्याल रखो। " जब वह चला गया तो गुरु साहिब ध्यान-मग्न हो गए । एक घण्टे बाद वह गड़रिया आया और बताया कि उसके सारे जानवर खो गए हैं । उसने काफी ढूँढा लेकिन वो नहीं मिले । उसे लगा कि उसे इन साधु लोगों को मज़ाक उड़ाने का फल मिला है । गुरु नानक ने ध्यान किया और उसे इशारा करके बताया कि उसके जानवर बगल की घाटी में भटक गए हैं और वह उन्हें वहाँ से ला सकता है । वह वहाँ जाकर अपने जानवर ले आया और गुरु का शुक्रिया अदा किया । उसको गुरु की सादगी और चेहरे की चमक बहुत ही भा गयी थी और वह गुरु की वाणी सुनने में मदहोश हो गया । घबरा कर उन जानवरों का मालिक वहाँ पर ढूँढ़ते उसे आया तो वह भी गुरु के दर्शन पाकर निहाल हो गया और रात को वहीं पर रुक गया । 

कुछ दिन वहाँ रुक कर गुरु नानक बिज विहार जो मट्टन (दक्षिण कश्मीर से ६० किमी) में स्थित है, में गए । ब्रह्म दास वहाँ कश्मीरी पण्डितों में सबसे विद्वान पण्डित माना जाता था क्योंकि उसने शास्त्रार्थ में सभी पण्डितों को पराजित कर रखा था । उसे सब हिन्दू ग्रन्थों का (जैसे वेद, पुराण, स्मृति, उपनिषदों आदि) का पूर्ण कंठस्थ ज्ञान था । वह गले में एक भारी शालिग्राम रख कर घूमता था । गुरु साहिब के बारे में जब उसे पता चला तो वह दो गधों पर सँस्कृत के ग्रन्थों को लादकर उनसे शास्त्रार्थ करने के लिए निकल पड़ा । गुरु की पोशाक देखकर बड़ा ही अचम्भित होकर बोला, " यह आपने कैसी पोशाक पहनी है ? फ़क़ीर लोग तो ऐसी पोशाक नहीं पहनते ? आपने यह चमड़ा क्यों धारण किया है, जो दूषित है और शास्त्रों में वर्जित है । आपने यह रस्सी क्यों अपनी देह पर लपेट रखी है? आप दर्शन की कौन सी विचारधारा से सम्बन्ध रखते हो? उस दर्शन की कौन सी किताबें आपने पढ़ी हैं ?"

गुरु नानक साहिब ने ज़बाब दिया:
पड़ि पड़ि गडी लदीअहि पड़ि पड़ि भरीअहि साथ ॥ 
पड़ि पड़ि बेड़ी पाईऐ पड़ि पड़ि गडीअहि खात ॥ 
पड़ीअहि जेते बरस बरस पड़ीअहि जेते मास ॥ 
पड़ीऐ जेती आरजा पड़ीअहि जेते सास ॥ 
नानक लेखै इक गल होरु हउमै झखणा झाख ॥१॥ 

गुरु नानक साहिब ने कहा कि पढ़-पढ़कर चाहे ग्रन्थों शास्त्रों की गाड़ियाँ भर ली जाएँ और इन ग्रंथों को अपने साथ-साथ लेकर घूमते रहे; चाहे कितनी किताबें पढ़ ली जाएँ जिनसे किश्तियाँ भर जाएँ और बड़े-बड़े तहखाने ग्रंथों से भर लिए जाएँ; चाहे सारा महीना पढ़ते जाएँ, चाहे सारा साल, सारी उम्र, साँस-साँस के साथ पढ़ते जाएँ, परन्तु लेखे में लिखी जाने वाली एक बात केवल राम-नाम का अभ्यास है, अन्य सब पढ़ना-पढ़ाना व्यर्थ की मेहनत करना है । 

गुरु नानक साहिब जी ग्रंथों और शास्त्रों के पाठ-वचार के विरुद्ध नहीं है । यदि ऐसा होता, तो आप न वाणी रचते और न ही गुरु अर्जुन देव आदि ग्रन्थ में अनेक पूर्ण पुरुषों की वाणी का संकलन करते । गुरु साहिब यह समझाने का यत्न कर रहे हैं कि मुक्ति ग्रंथो और शास्त्रों के पढ़ने-पढ़ाने में नहीं, बल्कि उनमें अंकित उपदेशानुसार राम-नाम का सुमिरन करने में है ।

लिखि लिखि पड़िआ ॥ तेता कड़िआ ॥
बहु तीरथ भविआ ॥ तेतो लविआ ॥ 
बहु भेख कीआ देही दुखु दीआ ॥ सहु वे जीआ अपणा कीआ ॥ 
अंनु न खाइआ सादु गवाइआ ॥ बहु दुखु पाइआ दूजा भाइआ ॥ 
बसत्र न पहिरै ॥ अहिनिसि कहरै ॥ 
मोनि विगूता ॥ किउ जागै गुर बिनु सूता ॥ 
पग उपेताणा ॥ अपणा कीआ कमाणा ॥ 
अलु मलु खाई सिरि छाई पाई ॥ 
मूरखि अंधै पति गवाई ॥ विणु नावै किछु थाइ न पाई ॥ 
रहै बेबाणी मड़ी मसाणी ॥ अंधु न जाणै फिरि पछुताणी ॥ (SGGS 467)

पिछले श्लोक के भाव का विस्तार करते हुए गुरु नानक देव जी कहते हैं:
धर्म-ग्रंथों के पाठ-विचार का मतवाला इन पुस्तकों को जितना पढता है और फिर आगे जितना इस पर टीका-टिप्पणी और विवेचना करता है और आगे स्वयं जितना लिखता है, उतना ही अधिक परेशान होता है । जितना अधिक वह तीथों पर जाता है, उतना अधिक वाद-विवाद में पड़ता है । जितने अधिक भेष धारण करता है, शरीर को उतना ही दुःख देता है । वह हठकर्मों और तप साधना द्वारा भी शरीर को दुःख देता है । अब दुःख तो सहन करना ही पडेगा । यह उसका अपना मोल लिया कष्ट है । 
यदि वह अनाज नहीं खाता है, तो अपने मुहँ का स्वाद ख़त्म कर बैठता है । वह द्वैत में खो जाता है जिस कारण उसे अनेक कष्ट सहन करने पड़ते हैं । 
यदि वस्त्र नहीं पहनता और नग्न रहता है, तो दिन-रात शरीर को गर्मी-सर्दी में दुखी रखता है । यदि वह मौन धारण कर लेता है तो भी अपने-आपको ख़्वार करता है । अज्ञानता की नींद में सोया हुआ मौनी, गुरु की कृपा के बिना इस नींद से कैसे जाग सकता है ?

यदि वह पाँव से नंगा रहता है तो इसे जो भी कष्ट पहुँचता है वह अपनी की हुई भूल द्वारा पहुँचता है - वह स्वयं ही कष्टों को न्यौता देता है । यदि वह गंदे पदार्थ खाता है, तो समझो कि अपने सिर पर राख डाल रहा है । इस तरह से अज्ञानी मूर्खों की तरह अपनी इज़्ज़त गवाँ रहा है । राम-नाम के बिना दूसरी कोई करनी प्रभु के घर में स्वीकृत नहीं है । यदि वह उजाड़ों और श्मशानों में रहता है तो अंत में पछताता है । 

जो व्यक्ति प्रभु की कृपा से सतगुरु की शरण प्राप्त करके राम-नाम को मन में बसा लेता है, उसे प्रभु के के साथ मिलाप का सच्चा आनंद प्राप्त हो जाता है । ऐसा भाग्यशाली जीव आशा-निराशा, अच्छे-बुरे आदि हर प्रकार की द्वैत से मुक्त हो जाता है । राम-नाम के दिव्य अमृत से उसके अहंकार का नाश हो जाता है और वह सब इच्छाओं, तृष्णाओं और चिंताओं से मुक्त हो जाता है ।

ब्रह्म दास थोड़ा संतुष्ट हुआ और फिर पूछा, " आप कौन से दर्शन शास्त्र के मत से सम्बन्ध रखते हैं ? मोक्ष पाने का क्या साधन है ?
गुरु साहिब ने फरमाया , "परमेश्वर ने सिर्फ एक ही रास्ता रखा है और उसमें प्रवेश करने का एक ही द्वार है । पूर्ण गुरु ही वह सीढ़ी है जिसके द्वारा इंसान अपने निज घर सचखण्ड पहुँच सकता है । बहुत ही खूबसूरत है वो राम जिसके नाम के प्रभाव से मनुष्य के सब दुःख दूर हो जाते हैं और वह परम आनंद की अवस्था में पहुँच जाता है । वह स्वयंभू है क्योंकि वह स्वयं का कर्ता है और खुद ही अपनी पहचान बख्शता है । उसने ही यह आकाश बनाया और उसने ही यह धरती जो एक दूसरे की छत का काम करते हैं । इस तरह सृष्टि की रचना करके गुप्त राम-नाम को प्रकट किया । उसने ही सूरज-चाँद बनाये और उन्हें अपने चेतन से रोशन किया । उसने ही रात-दिन बनाये और उसकी सृष्टि बहुत ही उम्दा और हसीन है । कितने उम्दा स्वर्ग, लोक और पुरी उसने बनाएं हैं । कितने तरह के राग-रागनियाँ उसकी सृष्टि में हो हैं, कितने ही अमृत के झरने उसके सूक्ष्म और कारण लोक में बह रहे हैं जिसमें निर्मल आत्माएं हँस-रूप में किलोल कर रही हैं । हे मालिक ! मैं कैसे तेरी तारीफ़ करूँ, तू बस तू ही है, तेरा जैसा कोई है ही नहीं । तू ही अपने अटल सिंहासन पर विराजमान है और तो बस जन्म-मरण के फेरे में घूम रहे हैं ।

ब्रह्म दास ने फिर प्रश्न किया, "क्या आप जानते हैं कि ये संसार कैसे बना ? शुरू में क्या था और क्या नहीं था ?"

गुरु नानक देव ने फरमाया, "अनेक युग अन्धकार छाया रहा, सृष्टि का कोई नाम-निशान नहीं था । उस समय सुन्न-समाधि में मग्न परमात्मा था या उसके सर्वव्यापक हुक्म के सिवाय और कुछ भी न था । चन्द्र-सूर्य, धरती और तारे नहीं थे, इसलिए दिन-रात भी नहीं थे । पाँच तत्व भी नहीं बने थे और न ही उत्पादन और व्यय के साधन थे । सागर, नदियाँ, खण्ड या पाताल आदि भी नहीं बने थे । ब्रह्मा, विष्णु और महेश, देवी-देवता भी नहीं थे, इसलिए जन्म-मरण, स्वर्ग-नरक, उदय-अस्त, नर-नारी, सुख-दुःख का द्वैत भी पैदा नहीं हुआ था । उस एक परमात्मा के अतिरिक्त कुछ भी नहीं था । न कोई जपी-तपी, सिद्ध-साधक, योगी-जंगम थे और न ही किसी प्रकार के जप-तप और पूजा-पाठ थे । उस समय अपने आपसे प्रकट हुआ परमात्मा स्वयं ही अपने आनंद में मग्न था । अपनी महिमा का मूल्य वह स्वयं ही परख रहा था । उस समय किसी प्रकार की पवित्रता-अपवित्रता, तन्त्र-मन्त्र, कर्म-धर्म, जाति-पाँति, मोह-माया आदि का जन्म नहीं हुआ था । गोपी-कृष्ण, गोरख-मछिन्द्र, ज्ञान-ध्यान, गाय-गायत्री, होम-यज्ञ, तीर्थ-व्रत, मुल्ला-क़ाज़ी, शेख-हाजी, राजा-प्रजा, वेद-कतेब, मन्दिर-मस्जिद, शिव-शक्ति, पूजा-भक्ति का भी नामों-निशान नहीं था । जब जन्म-मरण ही नहीं था और नेकी-बदेी का ख्याल ही नहीं पैदा हुआ था तो कर्म और फल का क्रम कैसे शुरू हो सकता है ? जब पूजा-भक्ति का ही पता न था तो धर्म और धर्म-स्थानों के आपसी विरोध की कैसे गुंजाइश हो सकती है ।

उस समय पूर्ण अद्वैत था । वह परमात्मा स्वयं ही शाह था और स्वयं ही बंजारा था । वह स्वयं ही करण-कारण था । वह स्वयं ही कहने वाला और सुनने वाला था । वह स्वयं ही साधक था और स्वयं ही इष्ट था । 
जब उसका हुक्म और मौज़ हुई तो उसने इस संसार की रचना की और बिना सहारे के रहनेवाला आकाश बना दिया । उसने स्वयं ही ब्रह्मा, विष्णु और महेश तथा शक्ति या माया को पैदा किया, जिन्होनें आगे सारा मोह और माया का द्वैतमय प्रसार कर दिया । 
जिस परमात्मा ने इस मोह और माया को पैदा किया, उसीने इसमें से निकलने का भी सामान स्वयं तैयार कर दिया । जिन जीवों को उसने अपने हुक्म या इच्छा से सतगुरु द्वारा सच्चे राम-नाम का बोध करा दिया, वे अलख प्रभु को लखने और अगम की गम्यता पाने के योग्य बन गए । संसार में कोई भी जीव अपने आप पत्मात्मा का ज्ञान नहीं पा सकता । बिरले सौभाग्यशाली जीव हैं, सतगुरु के दिव्य राम-नाम द्वारा अलख, अगम और अगाह पत्मात्मा का भेद प्राप्त होता है । वे लोग सदा के लिए परमात्मा में समा जाते हैं । उस आनंद-रूप कर्ता में समा कर वे भी सहज आनंद को प्राप्त हो जाते हैं ।

पंडित ब्रह्म दास गुरु के वचनों से प्रभावित तो हुआ पर उसका अहं भाव अभी भी जोर मार रहा था । क्योंकि जो कुछ अभी तक उसने ज्ञान किताबे पढ़ कर अर्जित किया, वह गुरु के वचनों के सामने एक खंडहर हुई इमारत की तरह ढहता प्रतीत हो रहा था । उसकी अंतरात्मा यह मानते हुए सकुचा रही थी कि उसकी विचारधारा बहुत ही खोखली थी और वह नितांत मूर्ख सिद्ध हो रहा था । गुरु साहिब उसकी मनोदशा को भाँपते हुए बोले कि वह कोई गुरु धारण करे जिससे उसके संशय दूर हो जाये। 

लेकिन ब्रह्म दास अभी भी अपने ज्ञान का अहंकार छोड़ नहीं पाया थे और बोला, "मुझे गुरु बनाने की ज़रुरत क्या है ? पूरे काश्मीर में मुझसे ज्ञान कौन है ? किसको गुरु बनाऊँ ? गुरु साहिब ने उसे जंगल में एक जगह का रास्ता बताया और कहा कि वहाँ चार फ़कीर रहते हैं, वह तुम्हें गुरु का रास्ता बतायेंगें । ब्रह्म दास को अब तक सही रास्ता पाने की ललक उठ चुकी थी । वह जब उन साधुओं से मिला तो उन्होनें उसे एक पहाड़ी के ऊपर एक पुराने मन्दिर के पास जाने को कहा और कहा कि तुम्हारे गुरु वहीँ मिलेंगें । जब वह मंदिर पहुँचा तो देखा वहाँ एक बहुत ही सुन्दर स्त्री नग्न अवस्था में खड़ी है और ब्रह्म दास को देखते ही उसे गाली-गलौंच करने लगी और फिर उसे जूते से पीटने लगी । उससे कहने लगी कि मैंने जन्म-जन्म से तुम्हारा साथ निभाया था और अब क्यों उसे छोड़कर गुरु नानक के पास चले गए । जब ब्रह्म दास वहाँ से जान बचाकर उन फ़क़ीरों के पास आया और उसका मतलब पूछा तो उन्होनें बताया कि वह माया थी जिसे तुमने अपना गुरु बना रखा है । ब्रह्म दास को अब अपनी असलियत का आभास हुआ । उसने मन ही मन महसूस किया कि इतना किताबी ज्ञान के बाद भी उसके मन से काम-वासना, आशा-तृष्णा, राग-द्वेष अभी तक वैसे ही वैसे हैं और वह अंतर से अभी भी मन का गुलाम है । उसे अपनी क्षीणता का अहसास हुआ और जाकर गुरु नानक के चरणों में गिर पड़ा । 

गुरु साहिब ने कहा, "पढ़ाई से बुद्धिमानी या समझ नहीं आती है । समझ अनुभव से आती है और अनुभव आध्यात्मिक अनुशासन और साधन से आता है आर जब वह दीनता और प्रेम से किया जाता है तब परमेश्वर की अपार दया होती है और मोक्ष मिल जाता है । "

ब्रह्म दास ने गुरु से दीक्षा लेकर अपना जीवन परमेश्वर के ध्यान और लोगों की सेवा में लगा दिया ।

MCI Decides Specific Fine And Punishment For Doctors Accepting Gifts And Bribes From Pharma Companies

The original MCI Code of Ethics tells that doctors should not receive cash or gifts from pharmaceutical companies or any healthcare representative. Subsequently the doctors convicted were discharged after issuance of warning if they apologized.

One and half year back a proposal was passed by MCI general body and ethics committee to define clear punishment for doctors accepting kickbacks as gifts, cash or travel facility etc from pharma companies. This was subsequently agreed by the union ministry of health and family welfare. 

The Indian Medical Council (Professional Conduct, Etiquette and Ethics) Regulations, 2002 was amended accordingly. This is what amendment proposes -

bribes or gifts worth 1000 to 5000 - Warning to the doctor
bribes or gifts worth 5000 to 10000 - Suspension from state medical council for 3 months
bribes or gifts worth 10000 to 50000 - Suspension from state medical council for 6 months
bribes or gifts over 50000 - Suspension from state medical council for 1 year
However, no progress on its implementation has been made so far because a gazette notification for the same is awaited since then. The delay has been attributed to administrative issues.

Friday, 16 October 2015

Pune doctors stop work for 11 hrs...........A Constable Beats Up Resident Doctor

Pune doctors stop work for 11 hrs


Something as trivial as a resident doctor at the staterun Sassoon General Hospital brushing against a constable's shoulder outside a ward triggered a violent reaction that started with hot words and descended into the medico being thrashed by the policeman on Wednesday .

The fight took place around 8.20pm on Wednesday when resident doctor Karma Zumba Bhutia from Sikkim, who is pursuing an MS (orthopaedics), was on emergency duty at the hospital attached to BJ Medical College.

Angry medicos, who are postgraduate students, went on a strike on Thursday around 10am to protest against their colleague being beaten up.

Medical services, including surgical procedures, were affected throughout the day till the students called of the protest at 9pm and resumed work after assurances from police commissioner K K Pathak to the hospital's dean Ajay Chandanwale that they would probe the incident.

“We met the police commissioner on Thursday evening and he told us that our students will not be falsely implicated and appropriate inquiry will be conducted in this case,“ Chandanwale said. Students had decided they would not call off the strike until charges against three of their colleagues were withdrawn.

Constable Shrikrishna Khokale's was suspended for dereliction of duty and was booked under sections 324 (voluntarily causing hurt), 332 (voluntarily causing hurt to deter public servant from his duty) and 353 (assault or criminal force to deter public servant from discharge of his duty) of the Indian Penal Code and the relevant sections of the Doctors' Protection Act.

“The police constable, who thrashed the doctor, has filed a first information report (FIR) against three of our colleagues who were witnesses. Police declared them absconding and booked them under section 353 (assault or criminal force to deter public servant from discharge of his duty) of the Indian Penal Code. All the three are on campus. They are being implicated when they have done nothing. The strike will continue till the charges against them are not withdrawn. Resident doctors from other state run medical colleges in the state will also join the strike,“ Dnyaneshwar Halnawat, secretary Maharashtra Association of Resident Doctors (MARD), said.

Bhutia was at the medicine ward number 14 on the second floor, Halnawat said.“He was in a hurry as he had to attend to an emergency care patient admitted in ward number three on the ground floor. He accidently brushed against Khokale's shoulder. Bhutia apologised, but the constable first slapped him.When a security guard rushed to his help, Khokale snatched the cane from the guard's hand and hit him on his head,“ Halnawat said.

A students' delegation met Pathak on Thursday . “He has assured us of all help. Higher authorities are cooperating with us, but we fear that our colleagues may unnecessarily be dragged into the matter though they have not committed any wrong. The police constable was in uniform. A doctor cannot beat up a policeman and tear his uniform as Khokale has alleged.We gathered at the spot soon after the incident and saw that his uniform was intact and he did not have a scratch on his body during medical examination. But he filed a complaint saying that we beat him up and tore up his uniform,“ Halnawat said.

Bhutia has sustained grievous head injury in the assault. “We conducted a CT scan which shows that Bhutia has developed cerebral oedema (swelling of the brain) as he was hit hard on the head.Besides, he has sustained blunt trauma on the left side of his head and a contusion over the left arm. He is undergoing treatment at the hospital under the supervision of a neurosurgeon,“ said Chandanwale, who is also the spine surgeon.

“Protesting students finished their medical care related work and then they went on strike. They could have gone on strike soon after the incident, but they did not do that. They worked all through the night and helped all scheduled morning surgeries,“ the dean added.

Of the 425 postgraduate students, 321joined the strike.“Barring emergency services, medical care in other departments took a beating.Surgical work drastically came down after 10am,“ said a nurse who did not wish to be named.

Source: TOI

Wednesday, 14 October 2015

Urgent Attention Please .............. Prescription Format issued by MCI for Doctors .............

MCI will issue standard prescription format for allopathic doctors to boost an accurate, uniform, standard and clear prescription for the sake of patient safety. The new format, prepared by MCI, is applicable for all doctors who practice allopathy in the country.

MCI-affiliated doctors are expected to start using the new format from April onwards. 




MCI is a statutory body having powers to suspend the license of a doctor who is found guilty of malpractice. 
The new format will be made available on the website of MCI.

This standard hard copy format is very much required for prescribing medicines in the interest of patient safety.

 The format also offers the physician to write generic medicines based on the efficacy, affordability and availability of drugs.

As per the new guidelines, allopathic doctors must write prescriptions legibly and in capital letters as well as furnish a complete and detailed prescription. 

The physicians have to also mandatorily mention the patient's address and keep blank space in which the pharmacist can specify his/her address. 

The comprehensive format includes the doctor's full name, his/her qualification, patient's details, name of the generic medicine or its equivalent along with the dosage, strength, dosage form and instruction, name and address of medical store with pharmacist's name and date of dispensing, as well as the doctor's signature and stamp.

Experts say that doctors in some countries, including the United States, print out prescriptions for the sake of clarity. 
In several countries, printed prescriptions are mandatory because they are not only legible, but also constitute a database of medication that the patient has taken over the years.
This is in consonance to the trend picking up for patients looking at online websites also likeHelpingDoc.com, Ask4Healthcare, bookmydoctor.com, Lybrate offering doctor appointment and consultation. 

Sometimes patients need not to visit India for the consultation, they get advice by the senior medical consultant through internet." 
This may be some good news for Indian patients as the overall cost of in-person primary physician appointment is high than compared to online appointments.
 E-visits or online consultation is gaining traction in the US. 
 "Online consulting is permissible but a standard prescription format will always offer authenticity and clarity in the form of doctor's stamp and signature."

ॐ नवरात्र में आदि शक्ति नवदुर्गा की पूजा अर्चना करने की विस्तृत जानकारी

ॐ नवरात्र में आदि शक्ति नवदुर्गा की पूजा अर्चना करने की विस्तृत जानकारी 

  





नवरात्र के सभी दिन मां दुर्गा की पूजा अलग-अलग रूपों में की जाती है.   ये आलेख आपको पूर्ण संतुष्टि देगी नवरात्री के बारें में जानने वालों के लिए और करने वालों के लिए.. 

जय माता दी  मारकण्डेय पुराण के अनुसार दुर्गा अपने पूर्व जन्म में प्रजापति रक्ष की कन्या के रूप में उत्पन्न हुई थीं। जब दुर्गा का नाम ' सती ' था। इनका विवाह भगवान शंकर से हुआ था। एक बार प्रजापति दक्ष ने एक बहुत बड़े यज्ञ का आयोजन किया। इस यज्ञ में सभी देवताओं को भाग लेने हेतु आमंत्रण भेजा , किन्तु भगवान शंकर को आमंत्रण नहीं भेजा। सती के अपने पिता का यज्ञ देखने और वहां जाकर परिवार के सदस्यों से मिलने का आग्रह करते देख भगवान शंकर ने उन्हें वहां जाने की अनुमति दे दी। सती ने पिता के घर पहुंच कर देखा कि कोई भी उनसे आदर और प्रेम से बातचीत नहीं कर रहा है। उन्होंने देखा कि वहां भगवान शंकर के प्रति तिरस्कार का भाव भरा हुआ है। पिता दक्ष ने भी भगवान के प्रति अपमानजनक वचन कहे। यह सब देख कर सती का मन ग्लानि और क्रोध से संतप्त हो उठा। वह अपने पति  का अपमान न सह सकीं और उन्होंने अपने आपको यज्ञ में जला कर भस्म कर लिया। 

अगले जन्म में सती ने नव दुर्गा के रूप धारण कर के जन्म लिया , जिनके नाम हैं:- 
1.शैलपुत्री 
2. ब्रहमचारिणी 
3. चन्द्रघंटा 
4. कूष्मांडा 
5. स्कन्दमाता 
6. कात्यायनी 
7. कालरात्रि 
8. महागौरी 
9. सिद्धिदात्री। 

जब देव और दानव युद्ध में देवतागण परास्त हो गये तो उन्होंने आदि शक्ति का आवाहन किया और एक एक करके उपरोक्त नौ दुर्गाओं ने युद्ध भूमि में उतरकर अपनी रणनीति से धरती और स्वर्ग लोक में छाये हुए दानवों का संहार किया। इनकी इस अपार शक्ति को स्थायी रूप देने के लिए देवताओं ने धरती पर चैत्र और आश्विन मास में नवरात्रों में इन्हीं देवीयों की पूजा अर्चना करने का प्रावधान किया। वैदिक युग की यही परम्परा आज भी बरकरार है। साल में रबि और खरीफ की फसले कट जाने के बाद अन्न का पहला भोग नवरात्रों में इन्हीं देवियों के नाम से अर्पित किया जाता है। आदि शक्ति दुर्गा के इन नौ स्वरूपों को प्रतिपदा से लेकर नवमी तक देवी के मण्डपों में क्रमवार पूजा जाता है। दुर्गा सप्तशती के अन्तर्गत देव दानव युद्ध का विस्तृत वर्णन है। इसमें देवी भगवती और मां पार्वती ने किस प्रकार से देवताओं के साम्राज्य को स्थापित करने के लिए तीनों लोकों में उत्पात मचाने वाले महादानव से लोहा लिया इसका वर्णन आता है। यही कारण है कि आज सारे भारत में हर जगह दुर्गा यानि नवदुर्गाओं के मन्दिर स्थपित हैं और साल में दो बार नौ दिन के लिए उत्तर से दक्षिण तक उत्सव का माहौल होता है। सम्पूर्ण दुर्गासप्तशती का अगर पाठ न भी कर सकें तो निम्नलिखित सप्तश्लोकी पाठ को पढ़ने से सम्पूर्ण दुर्गासप्तशती और नवदुर्गाओं के पूजन का फल प्राप्त हो जाता है। 


ओम् ज्ञानिनामपि चेतांसि देवी भगवती हि सा। 
बलादाकृष्य मोहाय महामाया प्रयच्छति।।1।। 
दुर्गे स्मृता हरसि भीतिमशेषजन्तोः 
स्वस्थैः स्मृता मतिमतीव शुभांव ददासि। 
दारिद्र्यदुःखभयहारिणि का त्वदन्या 
सर्वोपकारकरणाय सदार्द्रचित्ता।। 2।। 
सर्वमंगलमंगलये शिवे सर्वार्थसाधिके। 
शरण्ये त्रयम्बके गौरि नारायणि नमोऽतु ते।।3।। 
शरणांगतदीन आर्त परित्राण परायणे 
सर्वस्यार्तिहरे देवि नारायणि नमोऽस्तु ते।। 4।। 
सर्वस्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्तिसमन्विते। 
भयेभ्यारत्नाहि नो देवि दुर्गे देवि नमोऽस्तु ते।।5।। 
रोगान शेषान पहंसि तुष्टा रूष्टा तु कामान् सकलानाभीष्टान्। त्यामाश्रितानां न विपन्नराणां त्वामाश्रिता श्रयतां प्रयान्ति।। 6।। सर्वाधाधाप्रशमनं त्रैलोक्यस्याखिलेश्वरि। 
एवमेव त्वया कार्यमस्मद्वैरिविनाशनम्।। 7।। 

वैसे तो दुर्गा के 108 नाम गिनाये जाते हैं लेकिन नवरात्रों में उनके स्थूल रूप को ध्यान में रखते हुए नौ दुर्गाओं की स्तुति और पूजा पाठ करने का गुप्त मंत्र ब्रहमा जी ने अपने पौत्र मार्कण्डेय ऋषि को दिया। इसको देवी कवच भी कहते हैं। देवी कवच का पूरा पाठ दुर्गा सप्तशती के 56 श्लोकों के अन्दर मिलता है। नौ दुर्गाओं के स्वरूप का वर्णन ब्रहमा जी ने इस प्रकार से किया है। 

प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रहमचारिणी। 
तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम्।। 
पंचमं स्कन्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च। 
सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम।।। 
नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः। 
उक्तान्येतानि नामानि ब्रहमणैव महात्मना।। 
अग्निना दमानस्तु शत्रुमध्ये गतो रणे। 
विषमें दुर्गमे चैव भयार्ताः शरणं गताः।। 

उपरोक्त नौ दुर्गाओं ने देव दानव युद्ध में विशेष भूमिका निभाई है इनकी सम्पूर्ण कथा देवी भागवत पुराण और मार्कण्डेय पुराण में लिखित है। शिव पुराण में भी इन दुर्गाओं के उत्पन्न होने की कथा का वर्णन आता है कि कैसे हिमालय राज की पुत्री पार्वती ने अपने भक्तों को सुरक्षित रखने के लिए तथा धरती आकाश पाताल में सुख शान्ति स्थापित करने के लिए दानवों राक्षसों और आतंक फैलाने वाले तत्वों को नष्ट करने की प्रतीज्ञा की ओर समस्त नवदुर्गाओं को विस्तारित करके उनके 108 रूप धारण करने से तीनों लोकों में दानव और राक्षस साम्राज्य का अन्त किया। 
इन नौदुर्गाओं में सबसे प्रथम देवी का नाम है शैल पुत्री जिसकी पूजा नवरात्र के पहले दिन होती है। 
दूसरी देवी का नाम है ब्रह्मचारिणी जिसकी पूजा नवरात्र के दूसरे दिन होती है। 
तीसरी देवी का नाम है चन्द्रघण्टा जिसकी पूजा नवरात्र के तीसरे दिन होती है। 
चौथी देवी का नाम है कूष्माण्डा जिसकी पूजा नवरात्र के चौथे दिन होती है। 
पांचवी दुर्गा का नाम है स्कन्दमाता जिसकी पूजा नवरात्र के पांचवें दिन होती है। 
छठी दुर्गा का नाम है कात्यायनी जिसकी पूजा नवरात्र के छठे दिन होती है। 
सातवी दुर्गा का नाम है कालरात्रि जिसकी पूजा नवरात्र के सातवें दिन होती है। 
आठवीं देवी का नाम है महागौरी जिसकी पूजा नवरात्र के आठवें दिन होती है। 
नवीं दुर्गा का नाम है सिद्धिदात्री जिसकी पूजा नवरात्र के अन्तिम दिन होती है। 
इन सभी दुर्गाओं के प्रकट होने और इनके कार्यक्षेत्र की बहुत लम्बी चौड़ी कथा और फेहरिस्त है। लेकिन यहां हम संक्षेप में ही उनकी पूजा अर्चना का वर्णन कर सकेंगे। 



पहला दिन शैलपुत्री देवी की पूजा :  



 मां दुर्गा का पहला स्वरूप शैलपुत्री का है। पर्वतराज हिमालय के यहां पुत्री के रूप में उत्पन्न होने के कारण इनको शैलपुत्री कहा गया। यह वृषभ पर आरूढ़ दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल पुष्प धारण किए हुए हैं। यह नव दुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। नवरात्र पूजन में पहले दिन इन्हीं का पूजन होता है। प्रथम दिन की पूजा में योगीजन अपने मन को ' मूलाधार ' चक्र में स्थिति करते हैं। यही से उनकी योग साधना शुरू होती है। 
वन्दे वांछितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्। 
वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्।। 
श्रद्धालु जनों की सूचना के लिए यह भी जरूरी है कि दुर्गा पूजन सामग्री में घटस्थापन सबसे महत्वपूर्ण होता है। व्रत और उपवास लेने की परम्परा प्राचीनकाल से ही है इस व्रत में फलाहार के कोई विशेष नियम नहीं हैं युवा हो या युवती बालक हो या वृद्ध सबको ही जगदम्बा की कृपा प्राप्त करने के लिए नवरात्रों में दुर्गा सप्तशती अवश्य पढ़नी चाहिए। घटस्थापन और पूजा पाठ में निम्नलिखत सामग्री पहले से ही व्यवस्था करके रख लेनी चाहिए।  

घटस्थापन हेतु- 
गंगा जल , नारियल , लाल कपड़ा , मौली , रौली , चन्दन , पान , सुपारी , धूपबत्ती , घी का दीपक , ताजे फल , फल माला , बेलपत्रों की माला , एक थाली में साफ चावल , घटस्थापन के स्थान में केले का खम्बा , घर के दरवाजे पर बन्दनवार के लिए आम के पत्ते , तांबे या मिटटी का एक घड़ा , चन्दन की लकड़ी , सयौंषघि , हल्दी की गांठ , 5 प्रकार के रत्न , देवी को स्नान के उपरान्त पहनाने के लिए उसकी मूर्ति के अनुसार लाल कपड़े , मिठाई , बताशा , सुगन्धित तेल , सिन्दूर , कंघा दर्पण आरती के लिए कपूर 5 प्रकार के फल पंचामृत जिसमें दूध दही शहद चीनी और गंगाजल हो , साथ ही पंच गव्य , जिसमें गाय का गोबर गाय का मूत्र गाय का दूध गाय का दही गाय का घी , भी पूजा सामग्री में रखना आवश्यक है। दुर्गा जी की स्वर्ण मूर्ति या ताम्र मूर्ति अगर ये भी उपलब्ध न हो सके तो मिटटी की मूर्ति अवश्य होनी चाहिए जिसको रंग आदि से चित्रित किया हो चूंकि नवदुर्गायें वस्त्र आभूषण और नैवेद्य प्रिय हैं अतः उनको पहनाने के लिए रोज रोज नये वस्त्र आभूषण जिनमें गले का हार हाथ की चूड़ियां कंगन मांग टीका नथ और कर्णफूल आदि आते हैं का भी आयोजन करके रखना। ये सभी सामग्री नौ दिन में नवदुर्गाओं को पूजा के दौरान समर्पित की जायेंगी। उपरोक्त सामग्री का संचयन करके रात्रिकाल में देवी का भव्य मंडप बनाकर उसे वस्त्र आभूषण पहनाने के उपरान्त फलफूल आदि अर्पित करके कीर्तन करते हुए माता का गुणगान करें। यही माता वैष्णव देवी कामाख्या सप्तपीठ और दक्षिण भारत के विभिन्न अंचलों में सदैव विराजमान रहती हैं। शैलपुत्री के रूप में हो चाहे दुर्गा माता के रूप में आप नित्य ही नौ दिन तक अपने घर या देवालय में जाकर नवरात्रों में नवदुर्गाओं की पूजा अर्चना का पुण्य लाभ कमा सकते हैं। अन्त में कपूर और घी के दिये को थाली में सजाकर आरती करनी होगी। 
दुर्गामाता की आरती सभी जगह प्रचलित है आरती को कंठस्थ करके भी रखा जा सकता है। 


अम्बे तू है जगदम्बे काली , जय दुर्गे खप्पर वाली। 
तेरे ही गुणगायें भारती ओ मैया हम सब उतारें तेरी आरती।। 
तेरे भक्त जनों पर मेया भीर पड़ी है। भारी , 
दानव दल पर टूट पड़ो मां करके सिंह सवारी।। 
सौ-सौ सिंहों से बलशाली अष्टभुजाओं वाली। 
दुखियों के दुख को निवारती।। 
ओ मैया-- मां बेटे का है इस जग में बड़ा ही निर्मल नाता। 
पूत कपूत सुने हैं पर ना माता सुनी कुमाता।। 
सब पर करूणा दरशाने वाली अमृत बरसाने वाली। 
भक्तों के दुखड़े निवारती।। 
ओ मैया -- नहीं मांगते धन और दौलत ना चांदी ना सोना। 
हम तो मांगे तेरे मन में एक छोटा सा कोना।। 
सबकी बिगड़ी बनाने वाली लाज बचाने वाली। 
सतियों के सत को संवारती।। ओ मैया-- 

इसके अलावा एक दूसरी प्रचलित आरती ओर भी है। जिसके आरंभ की पंक्तियां हैं - 
ओम जय अम्बे मैया जै श्यामा गौरी , 
तुमको निशि दिन ध्यावत हरी ब्रहमा शिवजी।। 

इन सभी आरतियों की बाजार में पुस्तक मिलती है जिसे नवरात्र के दौरान संग्रह करके रखना उत्तम होता है। शैलपुत्री की पूजा अर्चना के बाद कलश पूजा अवश्य करे। 


दूसरा दिन ब्रहमचारिणी देवी की पूजा :    



मां दुर्गा की नौ शक्तियों में से दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है। यहां '' ब्रहम '' शब्द का अर्थ तपस्या से है। ब्रह्मचारिणी का अर्थ हुआ तप की चारिणी-तप का आचरण करने वाली। ब्रह्मचारिणी देवी का स्वरूप पूर्ण ज्योतिर्मय एवं अत्यंत भव्य है। इनके बाएं हाथ में कमण्डल और दाएं हाथ में जप की माला रहती है। मां दुर्गा का यह दूसरा स्वरूप भक्तों और सिद्धों को अनंत फल प्रदान करने वाला है। इनकी उपासना से मनुष्य में तप , त्याग , वैराग्य , सदाचार , संयम की वृद्धि होती है। दुर्गा पूजा के दूसरे दिन इन्हीं की उपासना की जाती है। इस दिन साधक का मन '' स्वाधिष्ठान '' चक्र में स्थित होता है। इस चक्र में अवस्थित मन वाला योगी उनकी कृपा और भक्ति प्राप्त करता है। 

दधाना कपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू। 

देवी प्रसीदतु मयि ब्रहमचारिण्यनुत्तमा। 


इन नवदुर्गाओं का वास्तविक व्यक्तित्व दुर्गा सप्तशती के देवी कवच में वर्णित है। ये सभी देवियां जिनको भक्तिपूर्वक स्मरण किया जाता है उनका निश्चय ही उद्धार करती हैं। देव दानव युद्ध के दौरान इनका जो स्वरूप और सवारी का वर्णन है वह इस प्रकार है जैसे कि चामुण्डा देवी प्रेत पर आरूढ़ होती है वाराही भैंसे पर सवारी करती है। ऐन्द्री का वाहन ऐरावत हाथी है। वैष्णवी देवी गरूड पर ही आसन जमाती है। माहेश्वरी वृषभ पर आरूढ़ होती हैं। कौमारी का वाहन मयूर है। भगवान विष्णु की प्रियतमा लक्ष्मीदेवी कमल के आसन पर विराजमान हैं और हाथों में कमल धारण किये हुए हैं। वृषभ पर आरूढ़ ईश्वरी देवी ने श्वेत रूप धारण कर रखा है। ब्राहमी देवी हंस पर बैठी हुई हैं और सब प्रकार के आभूषणों से विभूषित हैं। इस प्रकार ये सभी माताएं सब प्रकार की योगशक्तियों से सम्पन्न हैं। इनके सिवा और भी बहुत सी देवियां हैं जो अनेक प्रकार के आभूषणों की शोभा से युक्त तथा नाना प्रकार के रत्नों से सुशोभित हैं। ये सम्पूर्ण देवियां क्रोध में भरी हुई हैं और भक्तों की रक्षा के लिये रथ पर बैठी दिखायी देती हैं। ये शंख, चक्र, गदा, शक्ति, हल और मुसल खेटक और तोमर परशु तथा पाश कुन्त और त्रिशूल एवं उत्तम शार्गधनुष आदि अस्त्र शस्त्र अपने हाथों में धारण करती हैं। दैत्यों के शरीर का नाश करना भक्तों को अभयदान देना और देवताओं का कल्याण करना यही उनके शस्त्र धारण का उद्देश्य है। देवी का द्वितीय स्वरूप ब्रहमचारिणी प्रतीक रूप में नवदुर्गाओं कीं दूसरी ऐसी अमोघ शक्ति है जिसने 108 दुर्गाओं में अपने विभिन्न रूप लेकर इस संसार में महाविद्या और महाबल जैसे शास्त्र और शस्त्र का निर्माण किया जिस प्रकार देवताओं में ज्ञान और वेदों के निर्माण कर्ता ब्रहमा जी हैं ऐसे ही आज के युग में मंत्र शक्ति और रचना विधान का नाम ब्रहमचारिणी है। इसकी पूजा अर्चना द्वितीया तिथि के दौरान की जाती है। सचिदानन्दमय ब्रहमस्वरूप की प्राप्ति कराना आदि विद्याओं की ज्ञाता ब्रहमचारिणी इस लोक के समस्त चर और अचर जगत की विद्याओं की ज्ञाता है। इसका स्वरूप स्वेत वस्त्र में लिप्टी हुई कन्या के रूप में है। जिसके एक हाथ में अष्टदल की माला और दूसरे हाथ में कमंडल विराजमान है। यह अक्षयमाला और कमंडल धारिणी ब्रहमचारिणी नामक दुर्गा शास्त्रों के ज्ञान और निगमागम तंत्र मंत्र आदि से संयुक्त है। अपने भक्तों को यह अपनी सर्वज्ञ सम्पन्न विद्या देकर विजयी बनाती है। ब्रहमचारिणी का स्वरूप बहुत ही सादा और भव्य है। मात्र एक हाथ में कमण्डल और दूसरे हाथ में चन्दन माला लिये हुए प्रसन्न मुद्रा में भक्तों को आशीर्वाद दे रही हैं। अन्य देवियों की तुलना में वह अतिसौम्य क्रोध रहित और तुरन्त वरदान देने वाली देवी हैं। नवरात्र के दूसरे दिन सांयकाल के समय देवी के मण्डपों में ब्रहचारिणी दुर्गा का स्वरूप बनाकर उसे सफेद वस्त्र पहनाकर हाथ में कमण्डल और चन्दन माला देने के उपरान्त फल फूल एवं धूप दीप नैवेद्य अर्पित करके आरती करने का विधान है। इस देवी के लिए भी वही जगदम्बा की आरती की जायेगी जो पहली देवी शैलपुत्री के अर्चना और पूजन के दौरान की गई। 


तीसरा दिन चन्द्रघण्टा नामक दुर्गा के लिए :    




मां दुर्गा की तीसरी शक्ति का नाम '' चन्द्रघण्टा '' है। नवरात्र उपासना में तीसरे दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन आराधना की जाती है। इनका स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है। इनके मस्तक में घण्टेके आकार का अर्धचन्द्र है। इसी कारण इस देवी का नाम चन्द्रघण्टा पड़ा है। इनके शरीर का रंग स्वर्ण के समान चमकीला है। इनका वाहन सिंह है। हमें चाहिए कि हम मन वचन कर्म एवं शरीर से शुद्ध होकर विधि विधान के अनुसार मां चन्द्रघण्टा की शरण लेकर उनकी उपासना आराधना में तत्पर हों। इनकी उपासना से हम समस्त सांसारिक कष्टों से छूटकर सहज ही परमपद के अधिकारी बन सकते हैं। 

पिण्डज प्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकैर्युता। 

प्रसादं तनुते महयं चन्द्रघण्टेति विश्रुता।। 


तृतीय दुर्गा चन्द्रघंटा शक्ति के रूप में विराजमान चन्द्र घंटा मस्तक पर चन्द्रमा को धारण किये हुए है। नवरात्र के तीसरे दिन इनकी पूजा अर्चना भक्तों को जन्मजन्मान्तर के कष्टों से मुक्त कर इहलोक और परलोक में कल्याण प्रदान करती है। देवी स्वरूप चन्द्रघंटा बाघ की सवारी करती है। इसके दस हाथों में कमल धनुष बाण कमंडल तलवार त्रिशूल और गदा जैसे अस्त्र हैं। इसके कंठ में स्वेत पुष्प की माला और रत्नजडित मुकुट शीर्ष पर विराजमान है। अपने दोनों हाथों से यह साधकों को चिरआयु आरोग्य और सुख सम्पदा का वरदान देती है। देव दानव युद्ध के दौरान देवताओं और राक्षसों में सौ वर्ष तक छलबल और शक्ति बल से युद्ध चलता रहा। राक्षसों के स्वामी महिषासुर नामक दैत्य था। जबकि देवताओं के स्वामी इन्द्र थे। इस युद्ध में कई बार देवताओं की सेना राक्षसों से पराजित हो गई ओर एक समय ऐसा आया जब देवताओं पर विजय प्राप्त कर महिषासुर स्वयं इन्द्र बन बैठा। सभी देवता जब पराजित हो गये तो ब्रहमा जी के नेतृत्व में मंत्रणा करने के लिए भगवान विष्णु और भगवान शंकर की शरण में गये। देवताओं ने बताया कि महिषासुर ने सूर्य इन्द्र अग्नि वायु चन्द्रमा यम वरूण तथा अन्य देवताओं के सभी अधिकार छीन लिये हैं और उनको बन्धक बनाकर स्वयं स्वर्गलोक का राजा बन गया है। देवता महिषासुर के प्रकोप से पृथ्वी पर विचरण कर रहे हैं। अब हम कहां जायें। ऐसी दीनवाणी सुनकर भगवान विष्णु और भगवान शिव अत्यधिक क्रोध से भर गये। इसी समय ब्रहमा विष्णु और शिव के मुंह से क्रोध के कारण एक महान तेज प्रकट हुआ। ओर अन्य देवताओं के शरीर से भी एक तेजोमय शक्ति मिलकर एकाकार हो गई। यह तेजोमय शक्ति एक पहाड़ यानि पर्वत के समान थी ओर उसकी ज्वालायें दशों दिशाओं में व्याप्त होने लगी। यह तेजपुंज सभी देवताओं के शरीर से प्रकट होने के कारण एक अलग ही स्वरूप लिये हुए था और उसके प्रकाश से तीनों लोग भर गये। तभी भगवान शंकर के तेज से उस देवी का मुख मण्डल प्रकट हुआ यमराज के तेज से देवी के बाल प्रकट हुए भगवान विष्णु के तेज से देवी की भुजाएं प्रकट हुई चन्द्रमा के तेज से देवी के दोनों स्तन उत्पन्न हुए इन्द्र के तेज से उसका कटि और उदर प्रदेश प्रकट हुआ वरूण के तेज से देवी की जंघायें तथा ऊरू स्थल प्रकट हुए। पृथ्वी के तेज से नितम्बों का निर्माण हुआ। ब्रहमा जी के तेज से देवी के दोनों चरण और सूर्य के तेज से चरणों की उंगलियां ओर वसुओं के तेज से हाथों की उंगलियां पैदा हुई। इसी प्रकार कुबेर के तेज से नासिका यानि नाक का निर्माण हुआ। प्रजापति के तेज से दांतों का सन्ध्याओं के तेज से दोनों भौंए तथा वायु के तेज से दोनों कानों का निर्माण हुआ। इस प्रकार सभी देवताओं के तेज से उस कल्याणकारी देवी जिसका नाम बाद में महिषासुर मर्दिनी पड़ा का प्रादुर्भाव हुआ। समस्त देवताओं के तेज पुज से प्रकट हुई देवी को देखकर पीड़ित देवताओं की प्रसन्नता का ठिकाना न रहा। भगवान शिव ने अपने त्रिशूल में से एक त्रिशूल देवी को दिया। भगवान विष्णु ने अपने चक्र में से एक चक्र देवी को प्रदान किया। इसी प्रकार सभी देवी देवताओं ने अनेक प्रकार अस्त्र शस्त्र देवी के हाथों में सजा दिये। इन्द्र ने अपने वज्र और ऐरावत हाथी से उतर कर एक घण्टा देवी को दिया। सूर्य ने अपने रोम कूपों और किरणों का तेज भरकर ढाल तलवार और दिव्य सिंह यानि शेर को सवारी के लिए उस देवी को अर्पित कर दिया। विश्वकर्मा ने कई अभेद्य कवच और अस्त्र देकर महिषासुर मर्दिनी नामक इस भगवती को सभी प्रकार के बड़े और छोटे अस्त्रों से शोभित किया। थोड़ी देर बाद महिषासुर ने देखा कि एक विशालकाय रूपवान स्त्री अनेक भुजाओं वाली और अस्त्र शस्त्र से सज्जित होकर और शेर पर बैठकर अट्टहास कर रही है। थोड़ी देर बाद महिषासुर की सेना का सेनापति आगे बढ़कर देवी के साथ युद्ध करने लगा। उधर उदग्र नामक महादैत्य भी 60 हजार राक्षसों को लेकर युद्ध में कूद पड़ा। महानु नामक दैत्य एक करोड़ रथियों को लेकर अशीलोमा नामक पांच करोड़ सैनिकों को लेकर जब युद्ध करने लगा तो वास्कल नामक राक्षस 60 लाख सैनिकों के साथ युद्ध में कूद पड़ा। सारे देवता एक तरफ इस महायुद्ध को देखने के लिए कोतुहल से खड़े थे। कुछ राक्षसों ने देवी पर अपनी शक्तियों से उत्पन्न अस्त्र शस्त्र आदि फैंके लेकिन देवी भगवती ने राक्षसों द्वारा फैंके गये अस्त्र शस्त्रों को इस प्रकार काट डाला मानो कोई गाजर मूली काट रहा हो। थोड़ी देर बाद महिषासुर मर्दिनी यानि देवी भगवती अपने शस्त्रों द्वारा राक्षसों की सेना को निशाना बनाने लगी ओर उनका वाहन शेर भी क्रोधित होकर दहाड़ें मारकर राक्षसों की सेना में इस तरह से प्रचण्ड होकर घूमने लगा जैसे कि जंगल में आग लग गई हो। शेर के श्वांस से सैकड़ों हजारों गण पैदा हो गये उनमें खग भिन्दीपाल परशु पटटीस आदि भी राक्षसों की सेना पर टूट पड़े। देवी भगवती ने त्रिशूल गदा और अन्य शस्त्रों से आक्रमण कर दिया रणचंडीका देवी ने तलवार से सैकड़ों असुरों को एक ही झटके में मौत के घाट उतार दिया। कुछ राक्षस देवी के घण्टे की आवाज से मोहित हो गये देवी ने झट से उन्हें अपने पास में बांध कर पृथ्वी पर घसीट कर मार डाला। देवी की चण्डी ने असुर सेना का इस प्रकार संहार कर दिया मानों तिनके और लकड़ी के ढेर में आग लगा दी हो। इस युद्ध में महिषासुर का वध तो हो ही गया साथ में अनेक अन्य नामी ग्रामी दैत्य और राक्षस भी मारे जिन्होंने तीनों लोकों में आतंक फैला रखा था। सभी देवी देवताओं ने प्रसन्न होकर आकाश से फूलों की वर्षा की। देवी का वाहन शेर भी भयंकर आवाज करता हुआ अपने बालों को हिलाता हुआ झूम रहा था। इस प्रकार सबसे पहले देवी ने देव दानव युद्ध में महिषासुर और अन्य दैत्यों से देवताओं को अभयदान दिलाया। चन्द्रघण्टा की पूजा अर्चना देवी के मण्डपों में बड़े उत्साह और उमंग से की जाती है। इसके स्वरूप के उत्पन्न होने से दानवों का अन्त होना आरंभ हो गया था। मंडपों में सजे हुए घण्ट और घड़ियाल बजार चन्द्रघण्टा की पूजा उस समय की जाती है जब आकाश में एक लकीरनुमा चन्द्रमा सांयकाल के समय उदित हो रहा हो। इसकी पूजा अर्चना करने से न केवल बल और बुद्धि का विकास होता है बल्कि युक्ति शक्ति और प्रकृति भी साधक का साथ देती है। उसकी पूजा अर्चना के बाद जगदम्बा माता की आरती की जाती है। 


चौथा दिन कूष्माण्डा नामक दुर्गा के लिए :   




 माता दुर्गा के चौथे स्वरूप का नाम कूष्माण्डा है। अपनी मन्द हल्की हंसी द्वारा ब्रहमाण्ड को उत्पन्न करने के कारण इनका नाम कूष्माण्डा पड़ा। नवरात्रों में चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की उपासना की जाती है। इस दिन साधक का मन '' अनाहज '' चक्र में स्थित होता है। अतः पवित्र मन से पूजा उपासना के कार्य में लगाना चाहिए। मां की उपासना मनुष्य को स्वभाविक रूप से भवसागर से पार उतरने के लिए सुगम और श्रेयस्कर मार्ग है। माता कूष्माण्डा की उपासना मनुष्य को आधिव्याधियों से विमुक्त करके उसे सुख समृद्धि और उन्नति की ओर ले जाती है। अतः अपनी लौकिक पारलौकिक उन्नति चाहने वालों को कूष्माण्डा की उपासना में हमेशा तत्पर रहना चाहिए। 


सुरासम्पूर्णकलशं रूधिराप्लुतमेव च। 

दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तुमे।। 


चौथी दुर्गा कूष्मांडा त्रिविध तापयुक्त संसार में कुत्सित ऊष्मा को हरने वाली देवी के उदर में पिण्ड और ब्रहमाण्ड के समस्त जठर और अग्नि का स्वरूप समाहित है। कूष्माण्डा देवी ही ब्रहमाण्ड से पिण्ड को उत्पन्न करने वाली दुर्गा कहलाती है। दुर्गा माता का यह चौथा स्वरूप है। इसलिए नवरात्रि में चतुर्थी तिथि को इनकी पूजा होती है। लौकिक स्वरूप में यह बाघ की सवारी करती हुई अष्टभुजाधारी मस्तक पर रत्नजटित स्वर्ण मुकुट वाली एक हाथ में कमंडल और दूसरे हाथ में कलश लिए हुए उज्जवल स्वरूप की दुर्गा है। इसके अन्य हाथों में कमल सुदर्शन चक्र गदा धनुष बाण और अक्ष माला विराजमान है। इन सब उपकरणों को धारण करने वाली कूष्माण्डा अपने भक्तों को रोग शोक और विनाश से मुक्त करके आयु यश बल और बुद्धि प्रदान करती है। सप्तशती के चौथे अध्याय में महिषासुर के अन्त के बाद देवताओं द्वारा देवी की स्तुति का वर्णन है। स्वर्ग में जहां देवताओं ने अपने गायन नृत्य और स्तुति से अम्बिका का गुणगान किया वहां धरती पर ऋषि मुनियों ने दुर्गा के स्तुति में होम यज्ञ और पाठ करने शुरू कर दिये। दुर्गा के बीज मंत्र ओम् एं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे से लाखों बार होम करके दुर्गा माता का इसी तरह से स्वर्ग लोक में देवताओं ने कूष्माण्डा का आवाहन किया। 


ओम् जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी। 

दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽतु ते।। 

जय त्वं देवि चामुण्डे जय भूतार्तिहारिणि। 

जय सर्वगते देवि कालरात्रि नमोऽतु ते।। 

मधुकैटभविद्राविविधातृवरदे नमः। 

रूपं देहि जयं देहि यशोदेहि द्विषो जहि।। 

महिषासुरनिर्णाशि भक्तानां सुखदे नमः। 

रूपां देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि।। 

रक्तबीजवधे देवि चण्डमुण्डविनाशिनि। 

रूपं देहि जयं देहि यशों देहि द्विषो।। 

शुम्भस्यैव निशुम्भस्य धूम्राक्षस्य च मर्दिनि। 

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि।। 

पत्नीं मनोरमां देहि मनोवृत्तानुसारिणीम्। 

तारिणीं दुर्गसंसारसागरस्य कुलोभ्दवाम्।। 


कूष्माण्डा के रूप में देवी की स्तुति करते हुए ब्रहमा जी ने कहा कि हे देवी तुम्ही स्वाहा हो तुम्ही वषट्कार हो। स्वर भी मुम्हारे ही स्वरूप हैं। तुम्ही जीवनदायिनी सुधा हो। नितय अक्षर प्रणव में अकार उकार मकार -- इन तीन मात्राओं के रूप में तुम्हीं स्थिति हो तथा इन तीन मात्राओं के अतिरिक्त जो बिन्दुरूपा नित्य अर्धमात्रा है , जिसका विशेष रूप से उच्चरण नहीं किया जा सकता वह भी तुम्ही हो। देवि ! तुम्हीं संध्या सावित्री तथा परम जननी हो। देवि! तुम्हीं इस विश्व ब्रहमाण्ड को धारण करती हो। तुमसे ही इस जगत की सृष्टि होती है। तुम्हीं से इसका पालन होता है और सदा तुम्हीं कल्प के अन्त में सबको अपना ग्रास बना लेती हो। जगन्मयी देवी इस जगत की उत्पत्ति के समय तुम सृष्टिरूपा हो पालन काल में स्थितिरूपा हो तथा कल्पान्तर के समय संहाररूप धारण करने वाली हो। तुम्हीं महाविद्या महामाया महामेधा महास्मृति महामोहरूपा महादेवी और महासुरी हो। तुम्हीं तीनों गुणों को उत्पन्न करने वाली सबकी प्रकृति हो। भयंकर कालरात्रि महारात्रि और मोहरात्रि भी तुम्हीं हो। तुम्हीं श्री तुम्हीं ईश्वरी तुम्हीं और तुम्हीं बोधस्वरूपा बुद्धि हो। लज्जा पुष्टि तुष्टि शान्ति और क्षमा भी तुम्हीं हो। तुम खडगधारिणी शूलधारिणी घेररूपा तथा गदा चक्र शंख और धनुष धारण करने वाली हो। बाण भुशुण्डी और परिघ-ये भी तुम्हारे अस्त्र हैं। तुम सौम्य और सौम्यतर हो इतना ही नहीं जितने भी सौम्य एवं सुन्दर पदार्थ हैं उन सबकी अपेक्षा तुम अत्यधिक सुन्दरी हो। पर और अपर--सबसे परे रहने वाली परमेश्वरी तुम्हीं हो। सर्वस्वरूपे देवि! कहीं भी सत्-असत् रूप जो कुछ वस्तुएं हैं और उन सबकी जो शक्ति है वह तुम्हीं हो। 


पांचवां दिन स्कन्दमाता नामक दुर्गा के लिए : 



   मां दुर्गा के पांचवे स्वरूप को स्कन्दमाता कहा जाता है। ये भगवान स्कन्द '' कुमार कार्तिकेय '' के नाम से भी जाने जाते हैं। इन्हीं भगवान स्कन्द अर्थात कार्तिकेय की माता होने के कारण मां दुर्गा के इस पांचवें स्वरूप को स्कन्दमाता के नाम से जाना जाता है। इनकी उपासना नवरात्रि पूजा के पांचवें दिन की जाती है। इस दिन साधक का मन '' विशुद्ध '' चक्र में स्थित रहता है। इनका वर्ण शुभ्र है। ये कमल के आसन पर विराजमान हैं। इसलिए इन्हें पद्मासन देवी भी कहा जाता है। इनका वाहन भी सिंह है। नवरात्र पूजन के पांचवें दिन का शास्त्रों में पुष्कल महत्व बताया गया है। इस चक्र में अवस्थित रहने वाले साधक की समस्त बाह्य क्रियाएं एवं चित्त वृत्तियों का लोप हो जाता है। 

सिंहासानगता नितयं पद्माश्रितकरद्वया। 

शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी।। 


पांचवीं दुर्गा स्कन्दमाता श्रुति और समृद्धि से युक्त छान्दोग्य उपनिषद के प्रवर्तक सनत्कुमार की माता भगवती का नाम स्कन्द है। अतः उनकी माता होने से कल्याणकारी शक्ति की अधिष्ठात्री देवी को पांचवीं दुर्गा स्कन्दमाता के रूप में पूजा जाता है। नवरात्रि में इसकी पूजा अर्चना का विशेष विधान है। अपने सांसारिक स्वरूप में यह देवी सिंह की सवारी पर विराजमान है। तथा चतुर्भज इस दुर्गा का स्वरूप दोनों हाथों में कमलदल लिये हुए और एक हाथ से अपनी गोद में ब्रहमस्वरूप सनत्कुमार को थामे हुए है। यह दुर्गा समस्त ज्ञान विज्ञान धर्म कर्म और कृषि उद्योग सहित पंच आवरणों से समाहित विद्यावाहिनी दुर्गा भी कहलाती है। चौथे और पांचवे अध्याय में जब समस्त देवतागण और महेश जी महिषासुर के वध के उपरान्त पूजनीय जगदम्बा को भक्तिपूर्वक नमस्कार करने गये तो देवी भगवती के अद्वितीय आभामंडल को देखकर चकित रह गये। सभी देवताओं ने सिर झुकाकर भगवती दुर्गा को नमस्कार करते हुए कहा कि........ 

श्रद्धा सतां कुलजनप्रभवस्य लज्जा। 

तां त्वां नताः स्म परिपालय देवि विश्वम्।।

 किं वर्णयाम तव रूपमचिन्त्यमेतत् किं चातिवीर्यमसुरक्षयकारि भूरि। 

किं चाहवेषु चरितानि तवाभ्वदुतानि सर्वेषु देव्यसुरदेवगणादिकेषु।।

 हेतुः समस्तजगतां त्रिगुणापि दोषै-र्न ज्ञायसे हरिहरादिभिरप्यपारा। सर्वाश्रयाखिलमिदं जगदंशभूत- मत्याकृता हि पमर प्रकृतिस्त्वमाद्या। यस्याः समस्तसुरता समुदीरणेन तृप्तिं प्रयात्ति सकलेषु मखेषु देवि। स्वाहासि वै पितृगणस्य च तृप्तिहेतु- रूच्चार्यसे त्वमत एवं जनैः स्वधा च।। 


देवताओं के मुख से पंचम देवी स्कन्दमाता के अभिप्राय में उपरोक्त श्लोकों का भावार्थ इस प्रकार से होगा - हे देवि ! आपके इस अचिन्त्य रूप का.... असुरों का नाश करने वाले भारी पराक्रम का , तथा समस्त देवताओं और दैत्यों के समक्ष युद्ध में प्रकट किये हुए आपके अदभुत चरित्रों का हम किस प्रकार से वर्णन करें। आप सम्पूर्ण जगत की उत्पत्ति में कारण हैं आप में सत्वगुण रजोगुण और तमोगुण ये तीनों गुण मौजूद हैं तो भी दोषों के साथ आपका संसर्ग नहीं जान पड़ता। भगवान विष्णु और महादेवजी आदि देवता भी आपका पार नहीं पाते। आप ही सबका आश्रय हैं। यह समस्त जगत आपका अंशभूत है क्योंकि आप सबकी आदिभूत अव्याकृता परा प्रकृति हैं। देवि ! सम्पूर्ण यज्ञों में जिसके उच्चारण से सब देता तृप्ति लाभ करते हैं वह स्वाहा आप ही हैं। इसके अतिरिक्त आप पितरों की भी तृप्तिका कारण हैं अतएव सब लोग आपको स्वधा भी कहते हैं। देवि ! जो मोक्ष की प्राप्ति का साधन है अचिन्त्य महाव्रतस्वरूपा है समस्त दोषों से रहित जितेन्द्रिय तत्व को ही सार वस्तु मानने वाले तथा मोक्ष की अभिलाषा रखने वाले मुनिजन जिसका अभ्यास करते हैं वह भगवती परा विद्या आप ही हैं आप शब्दस्वरूपा हैं अत्यन्त निर्मल ऋग्वेद यजुर्वेद तथा उद्गीथ के मनोहर पदों के पाठ से युक्त सामवेद का भी आधार आप ही हैं। आप देवी त्रयी (तीनों वेद)और भगवती (छहों ऐश्वर्यो से युक्त)हैं। इस विश्व की उत्पत्ति एवं पालन के लिये आप ही वार्ता (खेती एवं आजीविका) के रूप में प्रकट हुई हैं। आप सम्पूर्ण जगत की घोर पीड़ा का नाश करने वाली हैं। देवि ! जिससे समस्त शास्त्रों के सार का ज्ञान होता है वह मेधाशक्ति आप ही हैं। दुर्गम भवसागर से पार उतारने वाली नौकारूप दुर्गादेवी भी आप ही हैं। आपकी कहीं भी आसक्ति नहीं है। कैटभ के शत्रु भगवान विष्णु के वक्ष5स्थल में एकामात्र निवास करने वाली भगवती लक्ष्मी तथा भगवान चन्द्रशेखर द्वारा सम्मानित गौरी देवी भी आप ही हैं। आपका मुख मन्द मुस्कान से सुशोभितनिर्मल पूर्ण चन्द्रमा के बिम्ब का अनुकरण करने वाला और उत्तम सुवर्ण की मनोहर कान्ति से कमनीय है तो भी उसे देखकर महिषासुर को क्रोध हुआ और सहसा उसने उस पर प्रहार कर दिया यह बड़े आश्चर्य की बात है। देवि ! वही मुख जब क्रोध से युक्त होने पर उदयकाल के चन्द्रमा की भांति लाल और तनी हुई भौंहो के कारण विकराल हो उठा तब उसे देखकर जो महिषासुर के प्राण तुरन्त नहीं निकल गये यह उससे भी बढ़कर आश्चर्य की बात है क्योंकि क्रोध में भरे हुए यमराज को देखकर भला कौन जीवित रह सकता है ? देवि ! आप प्रसन्न हों परमात्मस्वरूपा आपके प्रसन्न होने पर जगत का अभ्युदय होता है और क्रोध भर जाने पर आप तत्काल ही कितने कुलों का सर्वनाश कर डालती हैं यह बात अभी अनुभव में आयी है क्योंकि महिषासुर की यह विशाल सेना क्षणभर में आपके कोप से नष्ट हो गयी है। 


पंचम देवी स्कन्द माता की पूजा अर्चना भी देवी के मण्डपों में ठीक वैसे ही होती है जैसे कि अन्य देवियों की। स्कन्द माता की गोद में उन्हीं का सूक्ष्म रूप छः सिरों वाली देवि का है। अतः इनकी पूजा अर्चना में छोटे छोटे छः मिट्टी की मूर्तियां सजानी बडी जरूरी हैं। इनके दोनों हाथों में कमल और सूक्ष्म रूपी स्कन्द माता के शरीर में धनुष बाण की आकृति है। पूजा के दौरान धनुष बाण का अर्पण करना भी शुभ रहता है। स्कन्दमाता के मन्दिर यत्रतत्र बने हुए हैं और श्रद्धालुजन उन्हें कन्दमूल फल आदि अर्पित करके अपनी श्रद्धा व्यक्त करते हैं। 


छठा दिन कात्यायनी नामक दुर्गा के लिए : 



  मां दुर्गा के छठे स्वरूप को कात्यायनी कहते हैं। कात्यायनी महर्षि कात्यायन की कठिन तपस्या से प्रसन्न होकर उनकी इच्छानुसार उनके यहां पुत्री के रूप में पैदा हुई थी। महर्षि कात्यायन ने सर्वप्रथम इनकी पूजा की थी, इसीलिए ये कात्यायनी के नाम से प्रसिद्ध हुईं । मां कात्यायनी अमोद्य फलदायिनी हैं। दुर्गा पूजा के छठे दिन इनके स्वरूप की पूजा की जाती है। इस दिन साधक का मन '' आज्ञा चक्र '' में स्थित रहता है। योग साधना में इस आज्ञा चक्र का अत्यन्त ही महत्वपूर्ण स्थान है। इस चक्र में स्थित मन वाला साधक मां कात्यायनी के चरणों में अपना सब कुछ न्यौछावर कर देता है। भक्त को सहजभाव से मां कात्यायनी के दर्शन प्राप्त हो जाते हैं इनका साधक इस लोक में रहते हुए भी अलौकिक तेज से युक्त रहता है। 

चन्द्रहासोज्जवलकरा शाईलवरवाहना। 

कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी।। 


छठी दुर्गा कात्यायनी यह दुर्गा देवताओं के और ऋषियों के कार्यो को सिद्ध करने लिए महर्षि कात्यायन के आश्रम में प्रकट हुई महर्षि ने उन्हें अपनी कन्या के स्वरूप पालन पोषण किया साक्षात दुर्गा स्वरूप इस छठी देवी का नाम कात्यायनी पड़ गया। यह दानवों और असुरों तथा पापी जीवधारियों का नाश करने वाली देवी भी कहलाती है। वैदिक युग में यह ऋषिमुनियों को कष्ट देने वाले प्राणघातक दानवों को अपने तेज से ही नष्ट कर देती थी। सांसारिक स्वरूप में यह शेर यानि सिंह पर सवार चार भुजाओं वाली सुसज्जित आभा मंडल युक्त देवी कहलाती है। इसके बायें हाथ में कमल और तलवार दाहिने हाथ में स्वस्तिक और आशीर्वाद की मुद्रा अंकित है। महिषासुर के बाद शुम्भ और निशुम्भ नामक असुरों ने अपने असुरी बल के घमण्ड में आकर इन्द्र के तीनों लोकों का राज्य और धनकोष छीन लिया। शुम्भ और निशुम्भ नामक राक्षस ही नवग्रहों को बन्धक बनाकर इनके अधिकार का उपयोग करने लगे। वायु और अग्नि का कार्य भी वही करने लगे। उन दोनों ने सभी देवताओं को अपमानित कर राज्य भ्रष्ट घोषित कर पराजित तथा अधिकार हीन बनाकर स्वर्ग से निकाल दिया। उन दोनों महान असुरों से तिरस्कृत देवताओं ने अपराजिता देवी का स्मरण किया। कि हे जगदम्बा आपने हम लोगों को वरदान दिया था कि आपत्ति काल में आपको स्मरण करने पर आप हमारे सभी कष्टों का तत्काल नाश कर देंगी। यह प्रार्थना लेकर देवता हिमालय पर्वत पर गये और वहां जाकर विष्णुमाया नामक दुर्गा की स्तुति करने लगे। 

नमो देव्यै महादेव्यै शिवायै सततं नमः। 

नमः प्रकृत्यै भद्रायै नियताः प्रणताः स्म ताम्।। 

रौद्रायै नमो नित्यायै गौर्यै धात्रयै नमो नमः। 

ज्योत्स्नायै चेन्दुरूपिण्यै सुखायै सततं नमो नमः।। 

कल्याण्यै प्रणतां वृद्धयै सिद्धयै कुर्मो नमो नमः। 

नैर्ऋत्यै भूभृतां लक्ष्म्यै शर्वाण्यै ते नमो नमः।। 

दुर्गार्य दुर्गपारार्य सारार्य सर्वकारिण्यै। 

ख्यात्यै तथैव कृष्णायै धूम्रार्य सततं नमः।। 

अतिसौम्यातिरौद्रार्य नतास्तस्यै नमो नमः। 

नमो जगत्प्रतिष्ठायै देव्यै कृत्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु विष्णुमायेति शब्दिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु चेतनेत्याभिधीयते। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।।। 

या देवी सर्वभूतेषु निद्रारूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु क्षुधारूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषुच्छायारूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता:। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु तृष्णारूपेण संस्थिताः। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु क्षानितरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।।। 

या देवी सर्वभूतेषु जातिरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु लज्जारूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु शान्तिरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु श्रद्धारूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु कानितरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु वृत्तिरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु स्मृतिरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।।। 

या देवी सर्वभूतेषु दयारूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु तुष्टिरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 

या देवी सर्वभूतेषु भ्रान्तिरूपेण संस्थिता। 

नमस्तस्यै , नमस्तस्यै , नमस्तस्यै नमो नमः।। 


जब शुम्भ और निशुम्भ ने सम्पूर्ण पृथ्वी लोक पाताल लोक और स्वर्ग लोक को अपने कब्जे में लेकर सम्पूर्ण देवताओं के धन और सम्पत्ति को राक्षस साम्राज्य के हवाले कर दिया और फिर अम्बिका नामक दुर्गा से कहने लगे तुम भी आकर हमारी गुलामी करो। इस पद देवी माता ने कहा कि शुम्भ और निशुम्भ में जो मुझे हरा देगा मैं उसी की दासी बन जाऊंगी और अन्त में जब घोर युद्ध हुआ तो दोनों राक्षस मारे गये। कात्यायनी देवी ने तब तीनों लोकों को शुम्भ और निशुम्भ के राक्षस साम्राज्य से मुक्त कराकर देवताओं को महान प्रसन्नता से आर्विभूत कराया। देवी के मण्डपों में छटे दिन कात्यायनी की पूजा अर्चना भी बड़े धूमधाम से की जायेगी। सातवां दिन कालरात्रि नामक दुर्गा के लिए मां दुर्गा के सातवें स्वरूप को कालरात्रि कहा जाता है। मां कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यन्त भयानक है , लेकिन ये सदैव शुभ फल देने वाली मानी जाती है। इसलिए इन्हें शुभंकरी भी कहा जाता है। दुर्गा पूजा के सप्तम् दिन मां कालरात्रि की पूजा का विधान है। इस दिन साधक का मन '' सहस्रार '' चक्र में स्थित रहता है। उसके लिए ब्रहमाण्ड की समस्त सिद्धियों के द्वार खुलने लगते हैं। इस चक्र में स्थित साधक का मन पूर्णतः मां कालरात्रि के रूपरूप में अवस्थित रहता है। मां कालरात्रि दुष्टों का विनाश और ग्रह बाधाओं को दूर करने वाली हैं। जिससे साधक भयमुक्त हो जाता है। 

एक वेधी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता। 

लम्बोष्ठी कर्णिकाकणी तैलाभ्यक्तशरीरिणी।। वामपदोल्लसल्लोहलताकण्टक भूषणा। 

वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी।। 


सातवीं दुर्गा कालरात्रि :    




अपने महा विनाशक गुणों से शत्रु एवं दुष्ट लोगों का संहार करने वाली सातवीं दुर्गा का नाम कालरात्रि है। विनाशिका होने के कारण इसका नाम कालरात्रि पड़ गया। इसे काली भी कहा जाता है। आकृति और सांसारिक स्वरूप में यह कालिका का अवतार यानि काले रंग रूप की अपनी विशाल केश राशि को फैलाकर चार भुजाओं वाली दुर्गा है। जो वर्ण और वेश में अर्द्धनारीश्वर शिव की ताण्डव मुद्रा में नजर आती है। इसकी आंखों से अग्नि की वर्षा होती है। एक हाथ से शत्रुओं की गर्दन पकड़कर दूसरे हाथ में खड़क तलवार से युद्ध स्थल में उनका नाश करने वाली कालरात्रि सचमुच ही अपने विकट रूप में नजर आती है। इसकी सवारी गधर्व यानि गधा है जो समस्त जीवजन्तुओं में सबसे अधिक परिश्रमी और निर्भय होकर अपनी अधिष्ठात्री देवी कालरात्रि को लेकर इस संसार में विचरण कर रहा है। कालरात्रि की पूजा नवरात्र के सातवें दिन की जाती है। इसे कराली भयंकरी कृष्णा और काली माता का स्वरूप भी प्रदान है लेकिन भक्तों पर उनकी असीम कृपा रहती है और उन्हें वह हर तरफ से रक्षा ही प्रदान करती है। अपने भाई निशुम्भ के मारे जाने और रक्तबीज के मारे जाने के बाद दैत्यराज शुम्भ ने देवी अम्बिका को युद्ध के लिए ललकारा बाणों की वर्षा तथा तीखे शस्त्रों तथा दारूण अस्त्रों के प्रहार के कारण उन दोनों का युद्ध सब लोगों के लिए भयानक प्रतीत हुआ। उस समय अम्बिका देवी ने जो सैकड़ों दिव्य अस्त्र छोडे उन्हें दैत्यराज शुम्भ ने उनके निवारक अस्त्रों द्वारा काट डाला। इसी प्रकार शुम्भ ने भी जो दिव्य अस्त्र चलाये उन्हें परमेश्वरी ने भयंकर हुंकार शब्द के उच्चारण आदि द्वारा खिलवाड़ में ही नष्ट कर डाला। तब उस असुर ने सैकड़ों बाणों से देवी को आच्छादित कर दिया। यह देख क्रोध में भरी हुई उन देवी ने भी बाण मारकर उसका धनुष काट डाला। धनुष कट जाने पर फिर दैत्यराज ने शक्ति हाथ में ली किन्तु देवी ने चक्र से उसके हाथ की शक्ति को भी काट गिराया। तत्पश्चात दैत्यों के स्वामी शुम्भ ने सौ चांदवाली चमकती हुई ढाल और तलवार हाथ में ले उस समय देवी पर धावा किया। उसके आते ही चण्डिका ने अपने धनुष से छोड़े हुए तीखे बाणों द्वारा उसकी सूर्यकिरणों के समान उज्जव ढाल और तलवार तुरन्त काट दिया। फिर उस दैत्य के घोडेऔर सारथि मारे गये धनुष तो पहले ही कट चुका था। अब उसने अम्बिका को मारने के लिये उद्यत हो भयंकर मुदगर हाथ में ले लिया। उसे आते देख देवी ने अपने तीक्ष्ण बाणों से उसका मुदगर भी काट डाला। तिस पर भी वह असुर मुक्का तानकर बडे वेग से देवी की ओर झपटा। उस दैत्यराज ने देवी की छाती में मुक्का मारा तब उन देवी ने भी उसकी छाती में एक चांटा जड़ दिया। देवी का थप्पड़ खाकर दैत्यराज शुम्भ पृथ्वी पर गिर पडा किन्तु पुनः सहसा पूर्ववत उठकर खडा हो गया। फिर वह उछला और देवी को ऊपर ले जाकर आकाश में खडा हो गया तब चण्डिका आकश में भह बिना किसी आधार के ही शुम्भ के साथ युद्ध करने लगीं। उस समय दैत्य और चण्डिका आकाश में एक दूसरे से लड़ने लगे। उनका वह युद्ध पहले सिद्ध और मुनियों को विस्मय में डालने वाला हुआ। फिर अम्बिका ने शुम्भ के साथ बहुत देर तक युद्ध करने के पश्चात उसे उठाकर घुमाया और पृथ्वी पर पटक दिया। पटके जाने पर पृथ्वी पर आने के बाद वह दुष्टात्मा दैत्य पुनः चण्डिका का वध करने के लिये उनकी ओर बडे वेग से दौडा। तब समस्त दैत्यों के राजा शुम्भ को अपनी ओर आते देख देवी ने त्रिशूलसे उसकी छाती छेदकर उसे पृथ्वी पर गिरा दिया। देवी के शूल की धार से घायल होने पर उसके प्राण पखेरू उड़ गये और वह समुद्रों द्वीपों तथा पर्वतों सहित समूची पृथ्वी को कंपाता हुआ भूमि पर गिर पड़ा तदनन्तर उस दुरात्मा के मारे जाने पर सम्पूर्ण जगत प्रसन्न एवं पूर्ण स्वस्थ हो गया तथा आकाश स्वच्छ दिखायी देने लगा। पहले जो उत्पातसूचक मेघ और उल्कापात होते थे वे सब शान्त हो गये तथा उस दैत्य के मारे जाने पर नदियां भी ठीक मार्ग से बहने लगीं। उस समय शुम्भ की मृत्यु के बाद सम्पूर्ण देवताओं का हृदय हर्ष से भर गया और गन्धर्वगण मधुर गीत गाने लगे। दूसरे गन्धर्व बाजे बजाने लगे और अप्सराएं नाचने लगी। पवित्र वायु बहने लगी। सूर्य की प्रभा उत्तम हो गयी। अग्निशाला की बुझी हुई आग अपने आप प्रज्वलित हो उठी तथा सम्पूर्ण दिशाओं के भयंकर शब्द शान्त हो गये। सातवीं देवी कालरात्रि तीन नेत्रों वाली दुर्गा के रूप में मशहूर है। उनके श्री अंगों की प्रभा बिजली के समान है। वे सिंह के कंधे पर बैठी हुई भयंकर प्रतीत होती हैं। हाथों में तलवार और ढाल लिये हुए अनेक कन्यायें उनकी सेवा में खडी हुई हैं। वे अपने हाथ में चक्र गदा तलवार ढाल बाण धनुष पाश और तर्जनी मुद्रा धारण किय हुए उनका स्वरूप अग्निमय है तथा वे माथे पर चन्द्रमा का मुकुट धारती करती हैं। कालरात्रि देवी ने कहा कि जो व्यक्ति मण्डप में जो रोज नवरात्रों के व्रत लेकर नव दुर्गाओं की पूजा करेगा। एकाग्रचित्त होकर मेरा ध्यान करेगा। उसकी मैं निश्चय ही सभी बाधायें व संकट दूर करूंगी। जो मधुकैटभ का नाश महिषासुर का वध तथा शुम्भ निशुम्भ के संहार के प्रसंग का पाठा करेंगे तथा अष्टमी चतुर्दशी और नवमी को भी जो एकाग्रचित हो भक्तिपूर्वक मेरे उत्तम महातम्यका श्रवण करेंगे। उन्हें कोई पाप नहीं छू सकेगा। उपर पर पापजनित आपत्तियां भी नहीं आयेंगी। उनके घर में कभी दरिद्रता नहीं होगी तथा उनको कभी प्रेमीजनों के विछोह का कष्ट भी नहीं भोगना पड़ेगा। इतना ही नहीं उन्हें शत्रु से लुटेरों से राजा से शस्त्र से अग्नि से तथा जल की राशि से भी कभी भय नहीं होगा। इसलिये सबको एकाग्रचित होकर भक्तिपूर्वक मेरे इस माहात्म्य को सदा पढ़ना और सुनना चाहिए। यह परमकल्याणकारक है। 

आठवां दिन महागौरी नामक दुर्गा के लिए :   


 


मां दुर्गा के आठवें स्वरूप का नाम महागौरी है। दुर्गा पूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है। इनकी उपासना से भक्तों के सभी कलुष धुल जाते हैं। 

श्वेते वृषे समरूढा श्वेताम्बराधरा शुचिः। 

महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा।। 

आठवीं दुर्गा महागौरी नवरात्र के आठवें दिन आठवीं दुर्गा महागौरी की पूजा अर्चना और स्थापना की जाती है। अपनी तपस्या के द्वारा इन्होंने गौर वर्ण प्राप्त किया था। अतः इन्हें उज्जवल स्वरूप की महागौरी धन ऐश्वर्य पदायिनी चैतन्यमयी त्रैलोक्य पुज्य मंगला शारिरिक मानसिक और सांसारिक ताप का हरण करने वाली माता महागौरी का नाम दिया गया है। उत्पत्ति के समय यह आठ वर्ष की आयु की होने के कारण नवरात्र के आठवें दिन पूजने से सदा सुख और शान्ति देती है। अपने भक्तों के लिए यह अन्नपूर्णा स्वरूप है। इसीलिए इसके भक्त अष्टमी के दिन कन्याओं का पूजन और सम्मान करते हुए महागौरी की कृपा प्राप्त करते हैं। यह धन वैभव और सुख शान्ति की अधिष्ठात्री देवी है। सांसारिक रूप में इसका स्वरूप बहुत ही उज्जवल कोमल स्वेतवर्णा तथा स्वेत वस्त्रधारी चतुर्भुज युक्त एक हाथ में त्रिशूल दूसरे हाथ में डमरू लिये हुए गायन संगीत की प्रिय देवी है जो सफेद वृषभ यानि बैल पर सवार है। नवरात्र के दौरान आठवीं देवी महागौरी की पूजा अर्चना का विधान है इसी दिन प्रातःकाल के समय अन्नकूट पूजा यानि कन्या पूजन का भी विधान है। कुछ लोग नवमी के दिन भी कन्या पूजन करते हैं लेकिन अष्ठमी के दिन कन्या पूजन करना श्रेष्ठ रहता है। कन्याओं की संख्या 9 हो तो अति उत्तम है नहीं तो दो कन्याओं से भी काम चल सकता है। कन्याओं की आयु 2 वर्ष से ऊपर तथा 10 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। दो वर्ष की कन्या कुमारी तीन वर्ष की कन्या त्रिमूर्ति चार वर्ष की कन्या कल्याणी पांच वर्ष की कन्या रोहिणी छः वर्ष की कन्या कालिका सात वर्ष की चण्डिका आठ वर्ष की कन्या शाम्भवी नौ वर्ष की कन्या दुर्गा तथा दस वर्ष की कन्या सुभद्रा मानी जाती है। इनको नमस्कार करने के मंत्र निम्नलिखित हैं --1. कौमाटर्यै नमः 2. त्रिमूर्त्यै नमः 3. कल्याण्यै नमः 4. रोहिर्ण्य नमः 5. कालिकायै नमः 6. चण्डिकार्य नमः 7. शम्भव्यै नमः 8. दुर्गायै नमः 9. सुभद्रायै नमः। कुमारी कन्याओं में नगी अधिकांगी या कुरूपा नहीं होनी चाहिए। भोजन करने के बाद उन कन्याओं को दक्षिणा देनी चाहिए। इस प्रकार महामाया भगवती प्रसन्नता से हामारे मनोरथ पूर्ण करती हैं। आठवीं देवी महागौरी पार्वती ने इस भूलोक में ऋद्धि सिद्धि प्राप्त करने के लिए एक महाकुंजीका स्तोत्र की रचना की और जिसका मंत्र निम्नलिखित है। इस मंत्र को जो नित्य ही देवी दुर्गा का ध्यान करके पढेगा। उसको इस संसार में धनधान्य समृद्धि और सुख शांति के अलावा सभी प्रकार के निर्भय जीवन व्यतीत करने के सुख साधन मिलेंगे। यह एक गुप्त मंत्र है कि इसके पाठ के द्वारा ही मारण मोहन वशीकरण स्तम्भन और उच्चाटन आदि के उद्देश्यों की भी पूर्ति करता है। मूल मंत्र नीचे दिया जा रहा है। 

ओम् ऐं ह्रीं क्लीं चमुण्डायै विच्चे।। 

ओम् ग्लौं हुं क्लीं जूं सः ज्वालय ज्वालय ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे ज्वल हं सं लं क्षं फट् स्वाहा।। 

नमस्ते रूद्ररूपिण्यै नमस्ते मधुमर्दिनि। 

नमः कैटभहारिण्यै नमस्ते महिषार्दिनि।। 

नमस्ते शुम्भहन्त्रयै च निशुम्भासुरघातिनि।। 

जागतं हि महादेवि जपं सिद्धं कुरूष्व में। 

ऐंकारी सृष्टिरूपायै ह्रींकारी प्रतिपालिका।। 

क्लींकारी कामरूपिण्यै बीजरूपे नमोऽतु ते। 

चामुण्डा चण्डघाती च यैकारी वरदायिनी। 

विच्चे चाभ्यदा नित्यं नमस्ते मन्त्ररूपिणि।।

 धां धीं धूं धूर्जटेः पत्नी वां वीं वूं वागधीश्वरी। 

क्रां क्रीं क्रूं कालिका देवि शां शीं शूं मे शुभं कुरू।। 

हुं हुं हुंकाररूपिण्यै जं जं जं जम्भनादिनी। 

भ्रां भ्रीं भ्रूं भैरवी भद्रे भवान्यै ते नमो नमः।। 

अं कं चं टं तं पं यं शं वीं दुं ऐं वीं हं क्षं धिजाग्रं धिजागं त्रोटय त्रोटय दीप्तं कुरू कुरू स्वाहा।। 

पां पीं पूं पार्वती पूर्णा खां खीं खूं खेचरी तथा।। 

सां सीं सूं सप्तशती देव्या मन्त्रसिद्धिं कुरूष्व में।। 

इदं तु कुंजिकया देवि हीनां सप्तशतीं पठेत्। 

न तस्य जायते सिद्धिररण्ये रोदनं यथा।। 

देवी के अष्टम स्वरूप महागौरी की पूजा अर्चना के समय रात्रिकाल में शिव और पार्वती सहित गणेश आदि की पूजा करनी भी आवश्यक है। देवी के पाठ में अनेक प्रकार स्तोत्र श्लोक एवं स्तुति गान के पाठ की व्यवस्था मार्कण्डेय पुराण सहित दुर्गासप्तशती में दी गई है। दुर्गा की पूजा में बैठने के लिए उनकी मूर्ति या चित्र को अपने आसन से अधिक ऊंचे आसन में रखना जरूरी है। देवी के स्तोत्र के पूजा करने के उपरान्त उनसे अपराध क्षमा याचना का स्तोत्र भी पढना अनिवार्य है। यह स्तोत्र इस प्रकार से है-- न मन्त्रं नो यन्त्रं तदपि च न जाने स्तुतिमहो न च आहवानं ध्यानं तदपि च न जाने स्तुतिकथाः। 

न जाने मुद्रास्ते तदपि च न जाने विलपनं परं जाने मातस्त्वदनुसरणं क्लेयशहरणम्।। 

विधेरज्ञानेन द्रवणिविरहेणालसतया विधेयाशक्यत्वात्तव चरणयोर्या च्युतिरभूत्। 

तदेतत् क्षन्तव्यं जननि सकलोद्धारिणि शिवे कुपुत्रो जायेत क्वचिदपि कुमाता न भवति।। 

पृथिव्यां पुत्रास्ते जननि बहवः सनित सरलाः परं तेषां मध्ये विरलतरलोऽहं तव सुतः। 

मदीयोऽयं त्यागः समुचितमिदं नो तव शिवे कुपुत्रो जायेत क्वचिदपि कुमाता न भवति।। 


इस प्रकार श्लोक के अभिप्राय के अनुसार देवी माता से अपने किये गये दैहिक दैविक या भौतिक अपराध की क्षमा याचना नित्य ही करनी चाहिए। 

नौवां दिन सिद्धिदात्री नामक दुर्गा के लिए :  


 


 मां दुर्गा की नवीं शक्ति को सिद्धिदात्री कहते हैं। जैसा नाम से प्रकट है ये सभी प्रकार की सिद्धियों को प्रदान करने वाली हैं। नव-दुर्गाओं में मां सिद्धिदात्री अन्तिम हैं। इनकी उपासना के बाद भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। देवी के लिए बनाए नैवेद्य की थाली में भोग का समान रखकर निम्न रूप से प्रार्थना करनी चाहिए। सिद्धगंधर्वयक्षाद्यैरसुरैररमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।। भोग समर्पण के पश्चात दुर्गा चालीसा , विन्ध्येश्वरी चालीसा , विन्ध्येश्वरी स्तोत्र का पाठ करके श्री दुर्गाजी की आरती करके नवरात्रों को हाथ जोड़कर विदा किया जाता है व्रत रखने वाले नर-नारी इस प्रकार से पूजा समाप्त करके भोजन करें और सामान्य व्यवहार व्यापार प्रारम्भ करें। नवीं दुर्गा सिद्धिदात्री नवदुर्गाओं में सबसे श्रेष्ठ और सिद्धि और मोक्ष देने वाली दुर्गा को सिद्धिदात्री कहा जाता है। यह देवी भगवान विष्णु की प्रियतमा लक्ष्मी के समान कमल के आसन पर विराजमान है। और हाथों में कमल शंख गदा सुदर्शन चक्र धारण किये हुए है। देव यक्ष किन्नर दानव ऋषि मुनि साधक विप्र और संसारी जन सिद्धिदात्री की पूजा नवरात्र के नवें दिन करके अपनी जीवन में यश बल और धन की प्राप्ति करते हैं। सिद्धिदात्री देवी उन सभी महाविद्याओं की अष्ट सिद्धियां भी प्रदान करती हैं जो सच्चे हृदय से उनके लिये आराधना करता है। नवें दिन सिद्धिदात्री की पूजा उपासना करने के लिए नवाहन का प्रसाद और नवरस युक्त भोजन तथा नौ प्रकार के फल फूल आदि का अर्पण करके जो भक्त नवरात्र का समापन करते हैं उनको इस संसार में धर्म अर्थ काम और मोक्ष की प्राप्ति होती है। सिद्धिदात्री देवी सरस्वती का भी स्वरूप है। जो स्वेत वस्त्रालंकार से युक्त महा ज्ञान और मधुर स्वर से अपने भक्तों को सम्मोहित करती है। नवें दिन सभी नवदुर्गाओं के सांसारिक स्वरूप को विसर्जन की परम्परा भी गंगा नर्मदा कावेरी या समुद्र जल में विसर्जित करने की परम्परा भी है। नवदुर्गा के स्वरूप में साक्षात पार्वती और भगवती विघ्नविनाशक गणपति को भी सम्मानित किया जाता है। वैसे तो दुर्गा के कई नाम हैं लेकिन नवदुर्गा के 108 नामों की चर्चा हर जगह आती है। इन 108 नामों में वह दुर्गायें भी हैं जो देवासुर संग्राम में खत्म हो गई। इन सभी 108 दुर्गाओं में से कुछ प्रमुख का यहां पर उल्लेख किया जा रहा है। 

शतनाम प्रवक्ष्यामि शृणुष्व कमलानने। 

यस्य प्रसादमात्रेण दुर्गा प्रीता भवेत् सती।। 

ओम् सती साध्वी भवप्रीता भवानी भवमोचनी। 

आर्या दुर्गा जया चाद्या त्रिनेत्रा शूलधारिणी।। 

पिनाकधाधारिणी चित्रा चण्डघण्टा महातपाः। 

मनो बुद्धिरहंकारा चित्तरूपा चिता चितिः।। 

सर्वमन्त्रमयी सत्ता सत्यानन्दस्वरूपिणी। 

अनन्ता भाविनी भाव्या भव्याभव्या सदागतिः।। 

शाम्भवी देवमाता च चिन्ता रत्नप्रिया सदा। 

सर्वविद्या दक्षकन्या दक्षयज्ञविनाशिनी।। 

अपर्णानेकवर्णा च पाटला पाटलावती। 

पट्टाम्बरपरीधाना कलमण्जीररंजिनी।। 

अमेयविक्रमा क्रूरा सुन्दरी सुरसुन्दरी। 

वनदुर्गा च मातंगी मतंमुनिपूजिता।। 

ब्राहमी माहेश्वरी चैन्द्री कौमारी वैष्णवी तथा। 

चामुण्डा चैव वाराही लक्ष्मीश्च पुरूषाकृतिः।। 

विमलोत्कर्षिणी ज्ञाना क्रिया नित्या च बुद्धिदा। 

बहुला बहुलप्रेमा सर्ववाहनवाहना।।

 निशुम्भशुम्भहननी महिषासुरमर्दिनी। 

मधुकैटभहन्त्री च चण्डमुण्डविनाशिनी।। 

सर्वासुरविनाशा च सर्वदानवघातिनी। 

सर्वशास्त्रमयी सतया सर्वास्त्रधारिणी तथा।। 

अनेकशस्त्रहस्ता च अनेकास्त्रस्य धारिणी। 

कुमारी चैककन्या च कैशोरी युवती यतिः।। 

अप्रौढा चैव प्रौढा च वृद्धमाता बलप्रदा। 

महोदरी मुक्तकेशी घोररूपा महाबला।। 

अग्निज्वाला रौद्रमुखी कालरात्रिस्तपस्विनी। 

नारायणी भद्रकाली विष्णुमाया जलोदरी।। 

शिवदूती कराली च अनन्ता परमेश्वरी। 

कात्यायनी च सावित्री प्रत्यक्षा ब्रहमवादिनी।। 

य इदं प्रपठेन्नित्यं दुर्गानामशताष्टकम्। 

नासाध्यं विद्यते देवि त्रिषु लोकेषु पार्वति।। 

धनं धान्यं सुतं जायां हयं हस्तिनमेव च। 

चतुर्वर्गं तथा चान्ते लभेन्मुक्तिं च शाश्वतीम्।। 


अन्त में सिद्धिदात्री के पीछे यही प्रार्थना है कि मैं हमेशा ही आपके ध्यान में तल्लीन रहूं। मुझे न मोक्ष की अभिलाषा है , न सम्पूर्ण वैभव की इच्छा है , न मुझे ज्ञान की आकांक्षा है। आपकी सेवा करता रहूं , मेरी यही इच्छा है। हे माता ! मैं आपसे विनती करता हूं कि जनम-जन्मान्तरतक आपके चरणों की सेवा में लिप्त रहूं। हे शिवानी ! आप यदि किंचित मात्र भी मुझ अनाथ पर कृपा कर दो तो मेरा जनम सफल हो जाए। हे दुर्गे ! दयानिधे ! मैं भूख प्यास के समय भी आपका स्मरण करता रहूं। हे जगदम्बे ! इससे विचित्र और क्या बात हो सकती है कि आप अपनी कृपा से मुझे परिपूर्ण कर दो। अपराधी होते हुए भी हे माता ! मैं आपकी कृपा से वंचित न रह जाऊं , मेरी यही अभिलाषा है। हे महादेवी ! आप जो उचित समझें वैसा मेरे साथ व्यवहार करें। 


दशवें दिन- विजय दशमी अर्थात् अपराजिता पूजन : 


  

 दशहरे का असली नाम विजय दशमी है जिसे अपराजिता पूजा का पर्व भी कहते हैं। नवदुर्गाओं की माता अपराजिता सम्पूर्ण ब्रहमाण्ड की शक्तिदायिनी और ऊर्जा उत्सर्जन करने वाली है। महर्षि वेद व्यास ने अपराजिता देवी को आदिकाल की श्रेष्ठ फल देने वाली.. देवताओं द्वारा पूजित महादेव , सहित ब्रहमा विष्णु और महेश के द्वारा नित्य ध्यान में लायी जाने वाली देवी कहा है। गायत्री स्वरूप अपराजिता को निम्नलिखित मंत्र से भी पूजा जाता है। 

ओम् महादेव्यै च विह्महे दुर्गायै धीमहि। 

तन्नो देवी प्रचोदयात्।। 

ओम् नमः सर्व हिताथौयै जगदाधार दायिके। 

साष्टांगोऽप्रणामस्ते प्रयत्नेन मया कृतः। 

नमस्ते देवी देवेशि नमस्ते ईप्सित प्रदे। 

नमस्ते जगतां धातित्र नमस्ते शंकरप्रिये।। 

ओम् सर्वरूपमयी देवी सर्वं देवीमयं जगत्। 

अतोऽहं विश्वरूपां तां नमामि परमेश्वरीम्।। 


देवी अपराजिता का पूजन का आरंभ तब से हुआ यह चारों युगों की शुरूआत हुई। देव दानव युद्ध का एक लम्बा अन्तराल बीत जाने पर नवदुर्गाओं ने जब दानवों के सम्पूर्ण वंश का नाश कर दिया तब दुर्गा माता अपनी आदि शक्ति अपराजिता को पूजने के लिए शमी की घास लेकर हिमालय में अन्तरध्यान हो गईं बाद में आर्य व्रत के राजाओं ने विजय पर्व के रूप में विजय दशमी की स्थापना की। ध्यान रहे कि उस वक्त की विजय दशमी देवताओं द्वारा दानवों पर विजय प्राप्त के उपलक्ष्य में थी। हालांकि उसमें इन्द्र आदि देवलोक के राजाओं के साथ धरती के राजा दशरथ जनक और शोणक ऋषि जैसे राजा भी थे जिन्होंने देव दानव युद्ध में अपना युद्ध कौशल दिखाया। स्वभाविक रूप से नवरात्र के दशवें दिन ही विजय दशमी मनाने की परम्परा चली। बाद में रामायण काल में राम ने अयोध्या का राज्याभिषेक किया लेकिन रावण एवं अन्य दानवों के पुनः जाग्रत होने से धरती फिर अशांत हो गई। अकेले राम ने अपने बाल्यकाल से ही आर्याव्रत पर घिरे हुए राक्षसों को एक - एक करके मारा। लेकिन सबसे बड़ा राक्षस रावण को मारने के लिए उन्हें जो जद्दोजहद करनी पड़ी उसका उल्लेख रामायण में मिलता है। नवरात्रों में ही सम्पूर्ण रामायण की रामलीला खेली जाती है। और दशवें दिन रावण का वध किया जाता है। दशानन रावण के वध से जो उत्सव भारत में मनाया गया वही उत्सव आज दशहरा यानि दस सिरों वाले रावण को हराने का प्रतीक है। अगर कहा जाये तो रामायण काल के बाद दशहरा मूलतः राजाओं यानि क्षत्रिय राजाओं का त्योहार रह गया है। जिस दिन वे विजयी होकर अपने राज्य पर उत्सव के रूप में जनसाधारण के बीच आते हैं। भारत में रामायण काल से ही अयोध्या के राजा राम के द्वारा मनाये जाने वाले विजय दशमी पर्व के अलावा क्षेत्रीय स्तर पर भी वहां के राजाओं की सवारी निकलती हैं। सारी सवारी रामलीला मैदान में एकत्रित होती हैं। और दस सिर वाले रावण, उसके भाई कुंभकर्ण, पुत्र मेघनाद को अग्नि प्रज्वलित करके जला देते हैं। कुल मिलाकर विजय दशमी बुराई पर अच्छाई की विजय का ही प्रतीक है। इस विजय के लिए देवी मां अपराजिता अपनी अपार शक्ति समय समय पर शूर वीर और क्षेत्रीय राजाओं को प्रदान करती रहती है। 

नवरात्री की  आप सभी को हार्दिक शुभकामना